पटना : 2019 में नये वादों की बात करने से पहले मोदी जी देश को बतायें कि उन्होंने पांच साल में अपने 2014 के घोषणा पत्र में किये गये किन-किन वादों को पूरा किया है? आज उन मुद्दों पर बात करने से क्यों कतरा रहे है? उन भारी-भरकम आसमानी वादों, योजनाओं और घोषणाओं का क्या हुआ? प्रधानमंत्री जी और बिहार के बड़बोले मुख्यमंत्री व उपमुख्यमंत्री जनता को जवाब दें। उक्त बातें नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने कही।
उन्होंने पूछा कि जनादेश चोरी से बिहार में बनी पलटीमार डबल इंजन की सरकार से बिहार को क्या लाभ हुआ? कुव्यवस्था और बेरोजगारी के अलावा राज्य के हिस्से क्या आया? बीजेपी 2014 के राष्ट्रीय घोषणा पत्र और बिहार में 2015 के विधानसभा चुनाव में किये गये वादों पर बात करने से क्यों शरमा रही है? नीतीश जी का तो कहना ही क्या उनके वादे तो बीजेपी से विपरीत थे लेकिन अब उनकी बैशाखी और जनादेश की डकैती के सहारे ही टिके है। उन्होंने पूछा कि बिहार के लिये विशेष राज्य व विशेष पैकेज का क्या हुआ? जब केंद्र और राज्य में एनडीए की ही सरकार है तो अब बिहार को उसका अधिकार क्यों नहीं दिया जा रहा? कानून व्यवस्था, शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, कृषि, उद्योग जैसे मुद्दों पर बिहार आज भी राष्ट्रीय औसत के सबसे निम्नतम स्तर पर क्यों है जबकि राज्य में पिछले 15 साल से बिहार में इन्हीं जुमलेबाजों और पलटीबाजों की सरकार रही है।
रोजगार के मसलें में बिहार अभी तक देश में सबसे नीचे क्यों है जबकि तथाकथित सुशासन की सरकार लगभग 15 साल से राज्य में है? सुनियोजित अपराधये हत्याये बलात्कारये अपहरण के आंकड़ों को डबल इंजन क्यों लग गया है? भ्रष्टाचार और बलात्कार में लिप्त सत्ताधारी नेताओं को नीतीश कुमार क्यों बचा रहे है? किसानों की स्थिति बद से बदतर हो गई हैये कृषि से जीविकोपार्जन असंभव बना दिया गया है। किसानों के मुद्दों पर डबल इंजन की सरकार असंवेदनशीलता की सारी हदें क्यों पार कर रही है? विद्यार्थी एक लचर और उदासीन शिक्षा व्यवस्था पर निर्भर रहने को विवश क्यों हैं। हर परीक्षा में गड़बडिय़ां, शिक्षक, भवनों, पुस्तकों का अभाव आम है। हर प्रतियोगिता परीक्षा व नियुक्ति में धांधली, भाई-भतीजावाद व जातिवाद आम क्यों है। हर परीक्षा पत्र परीक्षा के पहले ही लीक क्यों हो रहा है। स्वास्थ्य संबंधी मुद्दे बाजारवाद की भेंट चढ़ गये हैं। गरीब खस्ताहाल सरकारी अस्पतालों में इलाज के नाम पर हो रहे भद्दे मज़ाक पर आश्रित होने को विवश क्यों हैं? पढ़ाई, दवाई और कमाई की जगह भ्रष्टाचार, बलात्कार और अत्याचार को बढ़ावा क्यों दिया जा रहा है? अपराधियों को संरक्षित, संपोषित और सुरक्षित क्यों किया जा रहा है?
Share To:

Post A Comment: