पटना : आज से ठीक 10 दिन बाद 26 मार्च को बिहार की गौरवशाली साहित्यिक संस्था बिहार हिन्दी साहित्य सम्मेलन में भारतवर्ष की चुनी हुई 100 विदुषियों को साहित्य सम्मेलन शताब्दी सम्मान से विभूषित किया जाएगा। गोवा की राज्यपाल डा. मृदुला सिन्हा, विदुषियों को स्मृति चिन्ह, प्रशस्ति पत्र और आन्ध्रप्रदेश से विशेष रूप से मंगाए जा रहे विदुषी अंग वस्त्रम देकर सम्मानित करेंगी। सम्मान समारोह में अंडमान निकोबार द्वीप समूह से लेकर कश्मीर तक की विदुषियां भाग लेने आ रहीं हैं। सम्मेलन के शती-वर्ष में हिन्दी की महान कवयित्री महीयसी महादेवी वर्मा की जयंती पर आयोजित इस समारोह के दूसरे खंड में राष्ट्रीय कवयित्री सम्मेलन का भी आयोजन होगा। जिसमें सम्मानित कवयित्रियां अपनी प्रतिनिधि रचनाओं का पाठ करेंगी। सम्मानित विदुषियों पर भारत की 100 विदुषियां नामक एक पुस्तक का भी प्रकाशन किया जाएगा। जिसमें इनके परिचय और प्रतिनिधि रचनाओं को समाविष्ट किया जाएगा। यह जानकारी साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष डा. अनिल सुलभ ने सम्मेलन सभागार में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में दी।
विदुषी सम्मान से विभूषित होने वाली साहित्यकारों में डा. मृदुला सिन्हा, अंडमान निकोबार से डा. एन लक्ष्मी, कश्मीर से डा. सकीना अख्तर, दक्षिण से डा. उषा रानी राव, डा. टी श्री लक्ष्मी, डा. एस शेशाारत्नम, न्यायमूर्ति मृदुला मिश्र, मृदुला गर्ग, डा. अहिल्या मिश्र, ममता कालिया, चित्रा मुद्गल, न्यायमूर्ति ज्ञान सुधा मिश्र, डा. शेफालिका वर्मा, शांति सुमन, डा. अनामिका, डा. मनजीत कौर मीत, कावेरी राय चौधरी, डा. महुआ मांझी, डा. नाग पद्मिनी, तुलिका चेतिया यीन, जेस्त्रि बोडो, डा. अंजाना संधीर, डा. पी राधिका, डा. के वनजा, डा. एस तंक मणि अम्मा, अनिता आनंद मकाती, प्रभा गणोरकर, डा. हैग्रुजाम रंजीता, डा. संतोष गर्ग, आरती पुण्डीर, डा. राजलक्ष्मी कृष्णन, डा. वी पद्मावती, डा. मधु चतुर्वेदी, डा. वासंती मठपाल, डा. व्यंजना शुक्ला, डा. कमल मुसद्दी, डा. कुसुम मानसी द्विवेदी, डा. तनुजा मजूमदार, डा. अनुराधा बनर्जी, डा. वी जयलक्ष्मी के नाम सम्मिलित हैं।
संवाददाता.सम्मेलन में सम्मेलन के उपाध्यक्ष नृपेंद्रनाथ गुप्त, डा. शंकर प्रसाद, डा. मधु वर्मा, प्रधानमंत्री डा. शिववंश पाण्डेय, साहित्य मंत्री डा. भूपेन्द्र कलसी, डा. सुलक्ष्मी कुमारी, योगेन्द्र प्रसाद मिश्र, डा. मेहता नगेंद्र सिंह, डा. पुष्पा जमुआर, डा. विनोद शर्मा, डा. विनय विष्णुपुरी, डा. नागेश्वर यादव, कृष्ण रंजन सिंह, आचार्य आनंद किशोर शास्त्री, निशिकांत मिश्र, नेहाल कुमार सिंह निर्मल आदि उपस्थित थे।

Share To:

Post A Comment: