पटना भाकपा-माले की राज्य स्थाई समिति की एक दिवसीय बैठक आज देर शाम संपन्न हुई. बैठक राज्य कार्यालय में आयोजित की गई थी. बैठक में राजनीतिक परिस्थिति व सीटों के तालमेल के संदर्भ में नई स्थितियों पर चर्चा की गई. माले महासचिव काॅ. दीपंकर भट्टाचार्य, राज्य सचिव कुणाल, पोलित ब्यूरो सदस्य काॅ. धीरेन्द्र झा, पूर्व विधायक तथा अखिल भारतीय किसान महासभा के महासचिव राजाराम सिंह, केंद्रीय कमिटी के सदस्य व भोजपुर के जुझारू नेता राजू यादव, काराकाट से पूर्व विधायक अरूण सिंह, बलरामपुर विधायक महबूब आलम, केंद्रीय कमिटी के सदस्य व खेग्रामस के राज्य सचिव गोपाल रविदास सहित वरिष्ठ पार्टी नेताओं ने भाग लिया। बैठक के हवाले से माले पोलित ब्यूरो सदस्य काॅ. धीरेन्द्र झा ने कहा कि भाजपा को हराना हमारी पार्टी की प्राथमिकता है. इसलिए हम सभी सेक्युलर दलों के एक व्यापक गठबंधन के पक्ष में हैं ताकि भाजपा को निर्णायक शिकस्त दी जा सके. हमारी पार्टी इस दिशा में लगातार प्रयास कर रही है।

आगे कहा कि भाकपा-माले व वामपंथ के बिना भाजपा के खिलाफ बना मोर्चा विश्वसनीय नहीं हो सकता. विपक्ष की अन्य पार्टियों को इस हकीकत को समझना चाहिए और माले व वाम दलों के आंदोलन व संगठन को ध्यान में रखते हुए चुनावी समझौते में उचित महत्व देना चाहिए। यह भी कहा कि सीट पर समझौते के संदर्भ में राष्ट्रीय जनता दल के नेता श्री तेजस्वी यादव व अन्य राजद नेताओं से कई राउंड की बातचीत हुई. हालिया स्थिति यह है कि राजद ने भाकपा-माले के प्रस्ताव पर विचार करने के लिए दो दिनों का समय मांगा है. राजद की ओर से जवाब आने पर भाकपा-माले अंतिम निर्णय लेगी और अपना पक्ष स्पष्ट करेगी। बहरहाल, पार्टी 6 सीटों पर चुनाव की तैयारी कर रही है. पहले से आरा, सिवान, जहानाबाद, पाटलिपुत्र, काराकाट और वाल्मिकीनगर की सीट घोषित है. पार्टी अब वाल्मिकीनगर की जगह कटिहार सीट से चुनाव लड़ने पर विचार कर रही है. बैठक में पार्टी के संभावित प्रत्याशियों पर भी चर्चा हुई, जिसे एक-दो दिनों में अंतिम रूप दे दिया जाएगा।


Share To:

Post A Comment: