पटना : केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री  अश्विनी कुमार चौबे ने पश्चिमी नील वायरस का मामला केरल में आने पर स्थितियों की जानकारी अधिकारियों से ली। इस संबंध में अभी तक की प्रोग्रेस से अवगत हुए। अधिकारियों को आवश्यक निर्देश भी दिए।
पश्चिमी वायरस एक तरह का दिमागी बुखार होता है। जो एहतियात न बरता जाए तो काफी तेजी से फैलता है। केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री श्री चौबे ने सभी आवश्यक कदम उठाने का आदेश अधिकारियों को दिया है। केरल में 7 साल के एक बच्चे में पश्चिमी नील वायरस का संक्रमण का मामला सामने आया था। इसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय सक्रिय हो गया था। मंत्रालय ने विशेषज्ञों का एक दल भी केरल रवाना किया है। केरल स्वास्थ्य विभाग के साथ मंत्रालय के अधिकारियों का निरंतर संपर्क बना हुआहै। यह एक संक्रामक रोग है जो सबसे पहले 1999 में अमेरिका में दिखाई पड़ा था।

Share To:

Post A Comment: