पटना : जन अधिकार पार्टी लो के राष्ट्रीय संरक्षक सह सांसद राजेश रंजन उर्फ  पप्पू यादव ने खुद को महागठबंधन का हिस्सा बताते हुए देश हित में कोई भी कुर्बानी देने की बात कही। उन्होंने विद्यापति भवन में आयोजित पार्टी की राज्य कार्यकारिणी की बैठक के बाद आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कोसी की जनता हमारी मालिक है और उनकी भावनाओं का सम्मान करना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता। हम मधेपुरा के सिटिंग सांसद हैं और महागठबंधन में इस सीट पर हमारा अधिकार बनता है। इसके बावजूद हम देश और महागठबंधन के हित में कोई भी त्याग और कुर्बानी के लिए तैयार हैं।


श्री यादव  ने कहा कि हम खुद को गठबंधन का हिस्सा मानते हैं और कांग्रेस का कोई भी निर्णय जन अधिकार पार्टी लो को स्वीकार होगा। हम कांग्रेस के साथ लगातार खड़े रहे हैं और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अपनी भावनाओं से अवगत करा दिया है। उन्होंने कहा कि जब गाली सुनने के बाद भी भाजपा का 26 दलों के साथ गठबंधन हो सकता है, तो देश बचाने के लिए हम साथ क्यों नहीं आ सकते हैं। आज हमारे सामने देश को बचाने की चुनौती है। देश में किसानों, युवाओं आदि के साथ हकमारी हो रही है। देश की 130 करोड़ की आबादी खतरे में हैं। बेरोजगारी दिन ब दिन बढ़ रही है। आर्थिक मोर्चे पर देश का बुरा हाल है। विश्व बैंक ने तो साफ कह दिया है कि अगर वर्तमान सरकार फिर से सत्ता में आती है, तो आर्थिक रूप से भारत का नामोनिशान मिट जायेगा। इस विकट परिस्थिति में हमने महागठबंधन का नेतृत्व कर रहे कांग्रेस के उपर सब छोड़ दिया है। राहुल गांधी जो फैसला लेंगे हम उनके साथ चलेंगे।


श्री यादव  ने कहा कि लालू प्रसाद यादव से मेरा कोई मतभेद नहीं है। उनके साथ हमारा व्यक्तिगत संबंध आज भी अच्छे हैं। उनके साथ खून का रिश्ता है। मगर राजद में ही कुछ प्रवक्ताओं ने उनको इस हालत में पहुंचाया है। सांसद ने कहा कि वैचारिक मतभेद हो सकता है, लेकिन अब मतभेद भुलाकर देश, युवा और किसानों के हित में साथ आने की जरूरत है। हम महागठबंधन के सभी सहयोगियों का सम्मान करते हैं। महागठबंधन में कांग्रेस और राजद के बाद सबसे बड़ा जनाधार जन अधिकार पार्टी लो का है। इसलिए महागठबंधन को इसका भी ख्याल रखना चाहिए।


Share To:

Post A Comment: