पटना : सीट शेयरिग पर आज एक और तारीख देेने पर स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने तथाकथित महागठबंधन पर निशाना साधा है। श्री पांडेय ने कहा कि महागठबंधन में सीट शेयरिंग का मामला वीरवल की खिचड़ी की तरह है, जो कभी नहीं पकेगी। आखिर पकेगी भी कैसे, नेताओं की लालसा जो पूरी नहीं हो रही है। महागठबंधन में शामिल दलों के नेता दो दिनों तक चली बैठक से भी संतुष्ट नहीं हैं। सीटों का गणीत सही नहीं बैठने पर ऐसे नेताओं के सुर अलग-अलग हैं। कोई किसी के बराबरी की सीट मांग रहे हैं तो कोई अपनी चुनिंदा सीट पर अड़े हुए हैं।

श्री पांडेय ने कहा कि महागठबंधन के नेताओं का एक ही उद्देश्य है कि मोदी हटाओ और एनडीए का उद्देश्य है कि भ्रष्टाचारियों से देश को बचाओ। यह महागठबंधन देश के विकास के लिए नहीं बल्कि भ्रष्टाचारियों के अस्तित्व बचाने के लिए बनी है, लेकिन ऐसे सियासी दलो के मंसूबे पूरे नहीं होने वाले हैं। उन्होंने कहा कि चौकीदार के पहरेदारी का ही नतीजा है कि सारे भगौड़े न सिर्फ पकड़ में आ रहे हैं बल्कि जेल की सलाखों में भी डाले जा रहे हैं। कांग्रेस के भ्रष्टाचार का आलम यह है कि गांधी परिवार के नाम नया घोटाला उजागर हुआ है। वह घोटाला है जमीन घोटाला। यह बात भी सत्य है कि राहुल गांधी ने अपने बहनोई  राबर्ट बाड्रा के साथ मिलकर इस खेल को अंजाम दिया।

   श्री पांडेय ने कहा कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद जेल से फरमान जारी कर रहे हैं कि कांग्रेस 8 सीटों पर संतोष करे, लेकिन कांग्रेस को उनकी सलाह रास नहीं आ रही है। 11-12 के चक्कर में राजद और कांग्रेस के नेता दो दिन पहले वाकयुद्ध कर एक-दूसरे को अल्टीमेटम भी दे रहे थे। उन्होंने कहा कि भले ही महागठबंधन के नेता इस मैराथन बैठक को ‘ऑल इस वेल’ बता रहे हों, लेकिन ऐसे नेता विकल्प की तलाश में भी लगे हुए हैं। जब सीट शेयरिंग पर महागठबंधन का यह हाल है तो दूल्हा बनने की बारी आएगी तो सेहरा पहनने के लिए मारामारी तय है।


Share To:

Post A Comment: