पटना, : बाबा साहब ने कहा था कि शिक्षित बनो, संगठित रहो और समाज के लिए काम करो। इस सपने को लेकर बाबा साहब ने बहुत संघर्ष किया। अब दूसरा भीमराव अम्बेडकर जमीन पर नहीं उतरेगा जो दलितों के बारे में कुछ सोंचेगा। एक जमाना था जब गांव-कसबा में कहीं भी चोरी होता था तो चोर का नाम दुसाध जुरूर जोड़ा जाता था। क्योंकि दुसाध ही जरूर चोरी किया होगा। आज जमाना बदल रहा है दलित युवा पढ़-लिखकर आगे बढ़ रहे हैं। ये बातें आज श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में अखिल भारतीय दुसाध-पासवान महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व आईपीएस डा. नंदू प्रसाद सभा को संबोधित कर रहे थे।
श्री प्रसाद कहा कि पुलिस सेवा में आईजी से लेकर एसपी तक बना और मेरा दरवाजा 24 घंटे खुला रहा। मैंने जीवन में यही सोंचा था कि अगर कोई रात के 12 बजे आता है तो गरीब ही मदद के लिए आ सकता है। बाबा साहब के नाम पर मुझे नौकरी मिल गया है तो मैं लोगों का भी उतना ही सम्मान करूं। उन्होंने कहा कि कुछ लेकर नहीं आये हंै समाज में जो काम करेंगे वही साथ जायेगा। हमने शिक्षा, स्वास्थ्य, आर्थिक विकास सामाजिक स्तर पर बेरोजगारी दूर करने की पहल, किसान एवं मजदूर को आगे लाकर समाज को सुधारना है। यही हमारे महासंघ का कार्य है। उन्होंने कहा कि पूरे बिहार में दुसाध के साथ कहीं भी घटना घटती है तो महासभा द्वारा उसे मदद करने के लिए तत्पर रहेंगे।
इस अवसर पर राष्ट्रीय महामंत्री आरएन पासवान, डा. संजय कुमार, मुकेश कुमार कौशल, शक्ति पासवान, भाजपा के वरिय नेता राणा राजेन्द्र पासवान, रंजीत पासवान, बंजारा, कुमकुम कुमारी, श्याम देवी, वीणा पासवान, कुमारी सरोता, डा. किरण कुमारी, सुरेन्द्र बहादुर राय अन्य ने संबोधित किया।

Share To:

Post A Comment: