पटना। नालंदा के पूर्व विधायक सह सवर्ण एकता मंच के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष राम नरेश सिंह ने आज पटना के होटल चाणक्‍या में आयोजित संवाददाता सम्‍मेलन में कहा कि सवर्ण एकता मंच देश की एकता और अखंडता को बरकरार रखने के प्रति वचनबद्ध है। उन्‍होंने कहा कि आज देश विचित्र स्थितियों का सामना कर रहा है। जातिगत और धार्मिक उन्‍माद विवाद के बाद अब हमारे देश के वीर जांबाजों के विरूद्ध कड़ी टिप्‍पणियां की जा रही है। हजारों सालों से देश के वीर सपूतों ने अपनी जान न्‍यौछावर कर धन, धर्म और मातृभूमी की रक्षा की। आज भी हमारे जवान आतंकियों को घुस कर मार रहे हैं, लेकिन कुछ लोग उन पर शक करते हैं। यह सही नहीं है। कुछ लोग कह रहे हैं मारे सैनिकों ने 300 से आतंकियों को मारे, जबकि हमारा मानना है कि हमारे जवानों ने मानवता का कत्‍ल करने वाले 1000-1200 दहशतगर्दों को नस्‍तेनाबूद कर दिया।

उन्‍होंने कहा कि स्‍वतंत्रता संग्राम के दौरान भी हमारे अपराजेय योद्धाओं ने देश के लिए अपनी बलि दे दी। लाखों लोगों को काली कोठरी में बंद कर यातनाएं दी गईं। इन सबके त्‍याग और बलिदान से आज हमारा तिरंगा शान से लहर रहा है। उन्‍होंने कहा कि इन तमाम सपूतों की याद में 17 मार्च को सवर्ण एकता मंच ने यादगार दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है, जिसमें बिहार समेत कई राज्‍यों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। यह आयोजन पटना के श्रीकृष्‍ण मेमोरियल हॉल में आयोजित किया जायेगा।

वहीं, संवाददाता सम्‍मेलन को सवर्ण एकता मंच के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष विवेक शर्मा ने भी संबोधित किया। विवेक शर्मा ने कहा कि इतिहास में पहली बार पाटलिपुत्र की धरती पर पहली बार सवर्ण समाज का महासम्‍मेलन आयोजित होने जा रहा है, वह भी हमारे स्‍वतंत्रता सेनानियों और शहीदों के उपलक्ष्‍य में। हम सत्ता और विपक्ष को बताना चाहते हैं कि सवर्ण समाज ने हमेशा देश को बनाने का काम किया है। लालू यादव के जंगलराज के खिलाफ जदयू – भाजपा को सवर्ण समाज ने ही सत्ता में वापसी कराई, मगर आज वे सवर्ण समाज पर ही राजनीति कर रहे हैं। बिहार में 10 हजार पुलिस की बहाली हुई, जिसमें सवर्ण समाज से मात्र 69 लोगों की बहाली हुई।

विवेक शर्मा ने कहा कि सरकार सवर्ण समाज को दबाने का काम कर रही है। लेकिन अब सवर्ण समाज जग गया है। कांग्रेस की रैली से ज्‍यादा सवर्ण समाज के लोग सवर्ण एकता मंच के राजगीर कंवेंशन में आये थे। अधिकार और हक की लड़ाई में हम आगे बढ़ कर लड़ेंगे। उन्‍होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में जो पार्टी सर्वाधिक सवर्ण समाज के लोगों को टिकट देगा, सवर्ण समाज उसी को वोट करेगी। अभी हमारी पार्टी नहीं है, लेकिन 2020 के विधान सभा चुनाव में हम अपना झंडा – अपना डंडा के बल पर बिहार में चुनाव लड़ेंगे।

10 प्रतिशत सवर्ण आरक्षण को उन्‍होंने एक शुरूआत बताया और कहा कि आरक्षण आर्थिक आधार पर हो। इससे सबका भला होगा। अन्‍यथा आबादी के अनुसार, हमें आरक्षण मिले। उन्‍होंने 17 मार्च को आहूत सवर्ण एकता मंच के यादगार दिवस के बारे में कहा कि आज देश में हमारे सैनिकों के साहस और शौर्य को अनदेखी कर दुश्‍मन देश की भाषा कई प्रमुख लोग बोल रहे हैं। इसे कृतज्ञ राष्‍ट्र बर्दाश्‍त नहीं करेगा। इसलिए उन अमर शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए 17 मार्च को यादगार दिवस मना रहे हैं, ताकि हमारी आनेवाली पीढ़ी अपने अमर शहीदों के शौर्य से गौरवान्तिव हों।

संवाददाता सम्‍मेलन में श्रीकांत सिंह, डोमन सिंह, प्रियतम राजा, राष्‍ट्रीय कोषाध्‍यक्ष संजय सिंह, विनय प्रकाश वर्मा, प्रवक्‍ता गुलशन कुमार, कामता सिंह‍, उमेश शर्मा, छोटे सिंह, वीरेंद्र सिंह, राम बालक शर्मा और युवा राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष विकास कुमार मौजूद रहे। 


Share To:

Post A Comment: