प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थान चाणक्य आईएएस एकेडमी से सिविल सेवा परीक्षा 2018 में कुल 759 उम्मीदवारों में से  280 से भी ज्यादा विद्यार्थी देश भर के विभिन्न शहरों से चयनित हुए है ।
चाणक्य आईएएस एकेडमी के लिए हर्ष की बात है कि सिविल सेवा परीक्षा के परिणामों में एक बार फिर संस्थान द्वारा प्रशिक्षित छात्रों ने नयी उंचाई को छुआ है। 5 छात्र चाणक्य आईएएस एकेडमी के टॉप 10 में रहे ऑल इंडिया रैंक 1 कनिष्क कटरिया, ऑल इंडिया रैंक 3 जुनैद अहमद, ऑल इंडिया रैंक 8 वैशाली सिंह, ऑल इंडिया रैंक 9 गुंजन द्विवेदी, और ऑल इंडिया रैंक 10 तन्मय शर्मा ने अपना स्थान बनाया है। संस्थान से टॉप 50 में से 17 और टॉप 100 में से 42 अभ्यर्थी चयनित हुए है ।  देश भर में चाणक्य आईएएस एकेडमी के विभिन्न केंद्रों में प्रशिक्षित छात्रों ने एक बार फिर से सिविल सेवा परीक्षा 2018 के नतीजे में शानदार प्रदर्शन कर अपना परचम लहराया है । 
वहीं चाणक्य आईएएस एकेडमी के इस बार हजारीबाग से दीपांकर चौधरी ऑलइंडियारैंक 166, सुमित अग्रवाल ऑलइंडियारैंक 471, रांची से देवराज दास रैंक 529 एवं तनय शंकर 136 रैंक प्राप्त कर नया कृतिमान संस्थान के नाम किया है। छात्रों के चयन से झारखंड सहित हजारीबाग जिले में सिविल सेवा की तैयारी कर रहे अन्य छात्रों में एक नई ऊर्जा भर दी है । दोनों छात्रों ने परिवार सहित पूरे जिले का नाम रौशन किया है ।
संस्थान के समुचित शैक्षणिक तौर तरीका ही सफलता का मूल मंत्र : सक्सेस गुरु एके मिश्रा
चाणक्य आईएएस एकेडमी के संस्थापक चेयरमैन सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने इस परिणाम को संस्थान के  समुचित शैक्षणिक तौर तरीके को सफलता का मूल मंत्र माना है। जिससे छात्रों को सिविल सेवक बनने में और अपने सपनों को साकार करने में भरपूर मदद मिली। सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने कहा कि विद्यार्थियों के साथ-साथ चाणक्य आईएएस एकेडमी के लिए भी यह गौरव की बात है। एकेडमी विद्यार्थियों के चिंतन प्रणाली और समस्याओं को हल करने के बारे में उनके दृष्टिकोण में एक क्रांतिकारी परिवर्तन लाने का प्रयास करती है यही उनके सफलता का कारण है। हमारे पास प्रत्येक विद्यार्थी एक अद्वितीय स्तर की शिक्षा और समझदारी लेकर आते हैं। सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के प्रति हम अपने कुशल दृष्टिकोण के साथ उनके सीखने तथा विश्लेषण करने की छमता को विकसित करते हैं ताकि विद्यार्थी एकेडमी से अच्छे प्रशासक बनने की काबिलियत लेकर बाहर जाएँ।  देश में बड़ी क्षमता वाले छात्र हैं जिनमे कुछ कर गुजरने की ताकत है । लेकिन कई ऐसे छात्र है जो समस्याओं और कठिनाइयों के कारण अपनी प्रतिभा को सफल बनाने में सक्षम नहीं हो पाते । हमारा संस्थान ऐसे प्रतिभा की तलाश भी करता है जो संसाधन के अभाव में कामयाबी से वंचित रह जाते हैं । हमारा लक्ष्य रहता है कि उनकी प्रतिभा को पहचानें और यह सुनिश्चित करें कि उनके रास्ते में आने वाली किसी भी तरह की समस्या उनके सफलता में बाधा न बनें।
सिविल सेवा परीक्षा 2018 में हजारीबाग, झारखंड सहित पूरे देश के चयनित अभ्यर्थियो के सफलता पर सक्सेस गुरु ने शुभकमनाएं दी है ।  उन्होने  संदेश देते हुए कहा है कि सिविल सेवा के माध्यम से ही आप समाज में नई ज़िम्मेदारीयां निभा कर लोक कल्याण और जनहित के लिए काम कर सकते हैं । एकेडमी के संस्थापक चेयरमैन सक्सेस गुरु एके मिश्रा झारखंड के हजारीबाग  बड़कागांव (गांव लंगातु) के रहने वाले है, यही वजह है झारखंड ऐसा राज्य है जहां एकेडमी के 3 सेंटर हजारीबाग, रांची और धनबाद में है । सक्सेस गुरु झारखंड के प्रतिभा को निखारने के लिए खासतौर से समर्पित रहते है। उन्होने चाणक्य आईएएस अकादमी की स्थापना वर्ष 1993 में की थी । उत्कृष्टता के 25 से अधिक वर्षों के साथ, एकेडमी के देश भर में इस बार के आंकड़ों को मिलाकर 4700 से भी अधिक सिविल सेवक देश को दिए है। एकेडमी का मुख्यालय नई दिल्ली में है जो बेहतर प्रबंधन द्वारा देश के 23 अध्ययन केंद्रों में संचालित है।
एकेडमी में अनुभवी शिक्षक हैं जो छात्रों को सिविल सेवा परीक्षा में सफलता के लिए प्रशिक्षित करते हैं। चाणक्य आईएएस एकेडमी का उद्देश्य अपने छात्रों के बीच गुणवत्तापूर्ण शिक्षण के साथ एक प्रतिस्पर्धी दृष्टिकोण विकसित करना है। इसके लिए संस्थान सिविल सेवकों और सॉफ्ट कौशल के द्वारा विशेषज्ञों की मदद से संगोष्ठियों और कार्यशालाओं का आयोजन करती है।

Share To:

Post A Comment: