पटना, (रिर्पोटर) : कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा कटिहार में दिए गए बयान को लोकतंत्र की भावना के खिलाफ बताते हुए भाजपा प्रदेश प्रवक्ता सह पूर्व विधायक श्री राजीव रंजन ने कहा “ लोकसभा चुनाव जीतने की बौखलाहट अब कांग्रेस फिर से समाज में फूट डाल राज करने की अपनी नीति पर आ गयी. कल अपने पाकिस्तान प्रेम के लिए मशहूर और राहुल गाँधी के खासम-खासों में से एक माने जाने वाले नवजोत सिंह सिद्धू ने कटिहार में जिस तरह की भाषा का प्रयोग किया वह कांग्रेस की असलियत जाहिर करता है. सिद्धू ने जिस तरह से समुदाय विशेष से कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में एकतरफ़ा मतदान करने की अपील की है, जिस तरह से उन्हें भड़काने की कोशिश की है, उससे लगता है कि उन्हें हिन्दुओं के वोट चाहिए ही नही. दरअसल यह सारा खेल राहुल गाँधी के इशारे पर खेला जा रहा है. देश का बच्चा-बच्चा जानता है कि कांग्रेस का कोई भी नेता गाँधी परिवार की अनुमति के बिना हाथ-पांव भी नही हिला सकता, ऐसे में सिद्धू ने जिस तरह से निर्भय हो कर यह विवादित बयान दिया है, वह बिना राहुल की मंजूरी के हो ही नहीं सकता.”


श्री रंजन ने आगे कहा “ चुनाव जीतने के लिए कांग्रेस की समाज तोड़ने वाली यह साजिसें नयी नही है. याद करें तो कर्नाटक चुनावों से पहले स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने सोनिया गाँधी को चिट्ठी लिख कर्नाटक चुनाव जीतने के लिए हिन्दुओं को जाति में बांटने और दुसरे धर्मों को एकजुट करने की सलाह दी थी, जिसके बाद वहां की कांग्रेसी सरकार ने लिंगायत समुदाय को हिन्दू समाज से अलग करने का निर्णय लिया था. खुद राहुल इस चुनाव में केरल के वायनाड से खड़े हो रहे हैं, जहां हिन्दू समाज अल्पसंख्यक है. इसके अलावा मध्यप्रदेश चुनावों से पहले कांग्रेस को मुस्लिमों की पार्टी बताने वाले राहुल के बयान को कौन भूल सकता है. दरअसल हमेशा सत्ता की मलाई खाने की आदि कांग्रेस पार्टी को यह बर्दाश्त ही नही हो रहा है कि लोगों ने उन्हें सत्ता से बाहर कर दिया है, यही वजह है कि वह आज धार्मिक ध्रुवीकरण कर लोगों के आपसी भाईचारे को तोड़ देना चाहते हैं. हमारी चुनाव आयोग से मांग है कि कांग्रेस नेता सिद्धू के खिलाफ सख्त से सख्त कारवाई करे.”



Share To:

Post A Comment: