जमुई, (रिर्पोटर) : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चुनावी रैली जमुई मेंं कहा कि जब वो 70 वर्षों में सब कुछ ठीक करने का दावा नहीं कर सकते, तो मैं सिर्फ 5 वर्षों में कैसे कर सकता हूं?
श्री मोदी ने कहा कि मैं यह दावा नहीं कर सकता कि सब कुछ नहीं कर सकता है, वो कांग्रेस 70 साल में दावा नहीं कर सकते तो, मैं 5 वर्षों में कैसे सभी काम करने का दावा कर सकता हूं मैं लगातार काम करता रहूंगा।   नीतीश कुमार के साथ एनडीए के सभी दलों ने बिहार को बदलने के काम किया है, साथ ही कहा कि हम बदलाव ला रहे हैं, जमुई के आसपास के इलाकों में पाइप लाइन से गैस पहुंचाने जा रहे हैं। 
उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार ने कनेक्टिविटी की दिशा में कई कदम उठाए हैं,अपनी सरकार की उपलब्धि गिनाते हुए कहा कि हमारी सरकार ने गरीब परिवार के लोगों को आयुष्मान भारत, गैस कनेक्शन के लिए उज्ज्वला योजना सहित किसानों के लिए काम किया है। बिहार के लोगों को देश के पिछड़े समाज, लोगों द्वारा फैलाए जा रही अफवाह का मुंहतोड़ जवाब दें।
श्री मोदी ने कहा कि मैं बिहार के लोगों को, देश के पिछड़े समाज, आदिवासी समुदाय को कहना चाहता हूं कि इन लोगों द्वारा फैलाए जा रही अफवाह का मुंहतोड़ जवाब दें। मोदी ही क्या कोई भी आपके आरक्षण को हाथ नहीं लगा सकता।  कोई भी आपके आरक्षण को हाथ नहीं लगा सकता, अफवाह का मुंहतोड़ जवाब दें । एनडीए की केंद्र सरकार ने हाल में सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए जो 10 प्रतिशत का प्रावधान किया है, वो भी किसी का अधिकार छीने बिना, छेड़े बिना किया है।

श्री मोदी ने कहा कि स्वार्थ की राजनीति करने वाले, भ्रम की राजनीति करने वाले, समाज को बांटकर, समाज को तोडक़र, अपना भला करना चाहते हैं। हर चुनाव में ये आरक्षण का विषय लेकर आ जाते हैं। आपको डराते हैं कि मोदी आरक्षण खत्म कर देगा। पहले के चुनावों में भी हुआ है और इस बार भी ऐसा किया जा रहा है।  केंद्र में कांग्रेस सरकार ओबीसी कमीशन बनाने में दिलचस्पी नहीं दिखाई । हमारी सरकार ओबीसी कमीशन को संवैधानिक दर्जा दिलाना चाहती थी। आपकी ये दशकों पुरानी मांग थी। लेकिन जब भी केंद्र में कांग्रेस औऱ उसके सहयोगियों की सरकार बनी, इन्होंने ओबीसी कमीशन बनाने में दिलचस्पी नहीं दिखाई।

उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार ने जब इस काम के लिए कदम बढ़ाया, तो इन्हीं दलों ने ओबीसी कमीशन की राह में रोड़े अटकाने शुरू कर दिए। हमारी नीयत साफ थी, इसलिए सारी अड़चने दूर करते हुए ओबीसी कमीशन को संवैधानिक दर्जा देने का काम, एनडीए की सरकार ने किया। कांग्रेस ने बाबा साहेब को हराने के लिए कांग्रेस ने साजिशें रची थीं। कांग्रेस ने हमारे संविधान के निर्माता बाबा साहेब के साथ क्या सलूक किया। उन्हें हराने के लिए कांग्रेस ने कितनी साजिशें रची थीं, ये भी आज की पीढ़ी के युवाओं को जानना जरूरी है। कांग्रेस ने बाबा साहेब की याद तक को भारत के जनमानस से मिटाने की साजिश रची। अपने परिवार को भारत रत्न देना कांग्रेस को याद रहा लेकिन बाबा साहेब याद नहीं आए। बाबा साहेब को भारत रत्न मिला, तो भाजपा और उसके सहयोगियों के लगातार प्रयास की वजह से। बाबा साहेब का जितना अपमान कांग्रेस ने किया है, उतना किसी और दल ने नहीं। कांग्रेस ने बाबा साहेब के साथ जो किया था, उसके बाद मैं ये मानता हूं कि जो भी बाबा साहेब को पूजनीय मानता है, वो कभी कांग्रेस के साथ नहीं जा सकता।  कुछ राजनीतिक अपनी स्वार्थ सिद्धि के लिए, सत्ता पाने के लिए बाबा साहेब के नाम का इस्तेमाल कर रहे हैं। ये वही लोग हैं जो आपातकाल में जेल गए थे, कभी जेपी का नाम लेते थे, औऱ आज कांग्रेस की गोद में जाकर बैठ गए हैं। बाबा साहेब का मान-सम्मान किसी भी राजनीतिक दल की ऊंचाई से कहीं ज्यादा ऊंचा है। कांग्रेस द्वारा उनका अपमान हम इतिहास से नहीं मिटा सकते, लेकिन आने वाली पीढिय़ां उनका नाम सुनकर गर्व महसूस करें, उनसे प्रेरणा लें, इसके लिए कोशिश जरूर कर रहे हैं। लंदन में जहां उन्होंने शिक्षा ग्रहण की, दिल्ली में जहां उनका निधन हुआ, मुंबई में चैत्यभूमि जहां उनका अंतिम संस्कार हुआ, उनके जीवन के महत्वपूर्ण स्थलों को पंच तीर्थ के तौर पर विकसित करने का काम एनडीए की सरकार ही कर रही है। जब कांग्रेसी सत्ता में आते हैं, पूरी शासन प्रणाली को रिवर्स गीयर लग जाता है।  जब भी कांग्रेस और उसके सहयोगी दल सत्ता में आते हैं, पूरी शासन प्रणाली को रिवर्स गीयर लग जाता है। सीधी चल रही देश की गाड़ी, पीछे की तरफ  चलने लगती है।  जो महंगाई नियंत्रण में रहनी चाहिए, वो कांग्रेस के सत्ता में आते ही बढऩे लगती है। आतंकी वारदातें बढऩे लगती हैं, देश में हिंसा बढऩे लगती है, असंतोष बढऩे लगता है, भ्रष्टाचार बढऩे लगता हैए कालाधन बढऩे लगता है। देश की समृद्धि कम होने लगती है। देश की साख कम होने लगती है। सैनिकों का मनोबल कम होने लगता है। ईमानदारी का सम्मान कम होने लगता है। ऐसी रिवर्स गीयर वाली पार्टियां न किसी राज्य का औऱ न ही देश का भला कर सकती है।

उन्होंने कहा कि केंद्र और बिहार की एनडीए सरकार आज भारत को मज़बूती की तरफ ले जा रही है चाहे आतंकवाद हो या फिर नक्सलवाद, हमारी नीति साफ है, भारत को आंख दिखाने का काम जो भी करेगा उससे नर्मी से नहीं निपटा जाएगा।  इसमें किसी को कोई शक नहीं होना चाहिए। चाहे वो नक्सलियों को वैचारिक चारा देने वाले लोग हों या फिर शरण देने वाले। हमारी सरकार की कोशिश है कि आपके जीवन को हर तरह से सुगम बनाया जाए। गांव-गांव तक सडक़ पहुंचाना हो या फिर गंगाजी पर पुल बनाने का काम, यहां की अधूरी सिंचाई परियोजनाएं, सभी को पूरा करने के लिए काम निरंतर जारी है। इसी प्रकार पीएम किसान सम्मान निधि से बिहार के डेढ़ करोड़ से अधिक किसान परिवारों को हर वर्ष हज़ारों करोड़ रुपए की सीधी मदद खाते में जमा होनी शुरु हो चुकी है।  विपक्षी बताएं उन्हें भारत के सपूतों पर भरोसा या पाक के कपूतों पर। पुलवामा हमले के बाद देश के वीर सपूतों ने किस तरह अपने शौर्य का प्रदर्शन किया। भारत के इतिहास में पहली बार आतंकियों के घर में घुसकर उनको सबक सिखाया है। पूरी दुनिया आतंक पर हमारे प्रहार की चर्चा कर रही है, लेकिन महामिलावटी कहते हैं मोदी सबूत दो, इन लोगों को देश को बताना चाहिए कि उन्हें भारत के सपूतों पर भरोसा है या फिर पाकिस्तान के कपूतों पर।  भटके नौजवान को पिछले 5 साल में मुख्यधारा में लाने का हर संभव प्रयास हमने किया है  अगर कोई नौजवान भटके हैं, उनको मुख्यधारा में लाने का हर संभव प्रयास हमने किया है। यूपीए के आखिरी पांच वर्षों में नक्सली-माओवादी विचारधारा से प्रभावित जितने युवाओं ने सरेंडर किया, उससे ढाई गुना ज्यादा युवा पिछले 5 साल में मुख्यधारा में आए हैं।
इस अवसर पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सह उजियारपुर सांसद के नित्यानंद राय, नवादा प्रत्याशी चंदन कुमार, जमुई प्रत्याशी चिराग पासवान, मंत्री विजय कुमार सिन्हा, मंगल पांडे, नंदकिशोर यादव, भाजपा विधायक मिथिलेश तिवारी, विधायक  मेवालाल चौधरी, मंत्री पूर्व अशोक चौधरी, सम्राट चौधरी, पूर्व विधायक रणधीर कुमार, अजय प्रपताप सिंह इत्यादि उपस्थित थे।

Share To:

Post A Comment: