मुजफ्फरपुर, (रिर्पोटर) :  महान स्वतंत्रता सेनानी खुदीराम बोस एवं बाबा गरीबनाथ को मैं तहे दिल से नमन करता हॅू। आज पताई हवाई अड्डा मैदान में प्रधानमंत्री एवं देश का चौकीदार नरेन्द्र मोदी ने एनडीए के पक्ष में चुनावी रैली को संबोधित करते कहा कि जिन्होंने बिहार की पहचान बदली थी, वह इस चुनाव में केंद्र में अपनी सरकार बनाने के लिए नहीं लड़ रहे, बल्कि अपनी सदस्य संख्या बढ़ाने के लिए छटपटा रहे हैं। अपनी सदस्य संख्या बढ़ाने के लिए जी तोड़ कोशिश करने वालों की ताकत बढ़ाने का मतलब है बिहार में लूट-पाट, अपहरण, भ्रष्टाचार के दिन वापस लाना।
उन्होंने बताया कि आजादी के बाद आज तक कांग्रेस की सरकार ने ओबीसी को आयोग का दर्जा नहीं दिया। हमारी सरकार आयी तो ओबीसी आयोग का दर्जा दिया और मुजफ्फरपुर के गरीब बेटा को इस आयोग का चेयरमैन बनाने का काम किया। गांव में लालबत्ती गायब हो गया और गरीब के घरों में बिजली जल रही है। बिहार की जनता से उन्होंने प्रश्न किया कि भारत में आतंकवाद का साथ देंगे या भगाने वाले का साथ देंगे। यह महामिलावटी महागठबंधन देश को सुरक्षा नहीं दे सकती है। पहले देश में आतंकवादी हमला होता था तो मनमोहन सरकार चिट्ठी पर चिट्ठी देते थे लेकिन उन पर हमला करने का साहस नहीं जुटा पाते थे। अब अमेरीका और इजरायल की तरह दुश्मनों को घर में घुसकर मारेंगा भारत। उन्होंने कहा कि महामिलावटी सरकार केन्द्र में कमजोर सरकार बनाना चाहती है ताकि जो इच्छा हो वह कर सकें। चार चरणों के हुए चुनाव में बिहार की जनता ने यह साबित कर दिया कि केन्द्र में अगली सरकार मोदी की ही बनेगी इसे कोई नहीं रोक सकता। उन्होंने कहा कि सवर्ण जाति के गरीबों के लिए हमने आरक्षण लागू किया न कि आरक्षण छिना है। 2022 तक सभी गांवों में मकान, किसानों को योजना का लाभ मिलेगा। हमारी सरकार आने के बाद व्यापार आयोग का गठन किया जायेगा। अब मछली पालने वालों को के्रडिट योजना का लाभ मिलेगा। जो भी जीएसटी दस लाख से अधिक जमा करेंगे उन्हें भी पेंशन योजना में शामिल किया जायेगा। बिहार की जनता जेल और बेल वालों को चार चरणों की चुनाव में जनता ने नकार दिया।

 


श्री  मोदी ने कहा कि  लोकसभा चुनाव के अब तक हो चुके चार चरणों के बाद कुछ लोग चारों खाने चित्त हो चुके हैं और अब अगले चरणों में यह तय करना है कि इनकी हार कितनी बड़ी होगी और भाजपा राजग की जीत कितनी भव्य होगी। नीतीश कुमार,रामविलास पासवान और सुशील कुमार मोदी सहित राजग के हमारे नेताओं के प्रयत्नों से बिहार ने बड़ी मुश्किल से अपने पुराने दौर को पीछे छोड़ा है लेकिन कुछ ताकतें बिहार में गिद्ध दृष्टि जमाए हुए हैं विपक्ष पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा की कुछ ताकतें बिहार को जातिए समाज के आधार पर बांटकर अपना स्वार्थ सिद्ध करना चाहती हैं अपने भ्रष्टाचार, काले कारनामों को छिपाना चाहती हैं क्योंकि उनका इरादा है कि दिल्ली में कमजोर सरकार बने ताकि ये फिर से मनमानी कर सकें।प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस की सहयोगी राजद के प्रमुख लालू प्रसाद की ओर इशारा करते हुए कहा कि यदि वे ताकत हासिल कर लेते हैं, तो बिहार में अराजकता के दिन वापस आ जाएंगे। ये चाहें कितनी भी कोशिश कर लें, कालेधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ  जो अभियान हमने चलाया है, उसकी रफ्तार धीमी नहीं पड़ेगी और जो बड़े-बड़े शॉपिंग मॉल, फॉर्म हाउस खड़े हुए हैं, उसका भी हिसाब देना होगा।मोदी ने कहा कि वे लालू प्रसाद जमानत पाने के लिए अदालत के चक्कर काट रहे हैं और इसलिए दिल्ली में मजबूत सरकार से डरते हैं। जितने भी महामिलावटी दल हैं उनमें से ज्यादातर इतनी सीटों पर भी चुनाव नहीं लड़ रहे हैं कि लोकसभा में विपक्ष के नेता का पद भी प्राप्त कर सकें। आतंकवाद जब फलता फूलता है तब कोई भी सुरक्षित नहीं रहता, चाहे वह किसी भी जाति या पंथ का क्यों न हो।

 मुजफ्फरपुर में बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि देश में एक ऐसी सरकार चाहिए जो आतंकवाद को देश के हिंसा फैलाने वाली हर ताकत को जड़ से उखाड़ फेंकने किे लिए प्रतिबद्ध हो। चाहे देश के भीतर हो या फिर सीमा के उस पार, आतंक और हिंसा फैलाने वाली फैक्ट्री जहां पर भी होगी, इस चौकीदार के निशाने पर है। भारत को जहां से भी खतरा होगा, हम घर में घुस कर मारेंगे। महामिलावट वालों का इतिहास ऐसा है कि ये आतंकवाद पर कुछ नहीं कह सकते, पाकिस्तान का नाम सुन कर इनके पैर कांपते हैं और यही वजह है कि एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक से इनको एलर्जी है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मेादी, प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, मंत्री प्रेम कुमार, सुरेश शर्मा, मंगल पांडे, नंदकिशोर यादव, मुजफ्फरपुर प्रत्याशी अजय निषाद, सीतामढ़ी के जदयू प्रत्याशी सुनील कुमार पिन्टू उपस्थित थे।

Share To:

Post A Comment: