मसौढी, (रिर्पोटर) : बिहार प्रदेश माध्यमिक शिक्षक शिक्षकेतर कर्मचारी महासंघ के आह्वान पर वेतन की मांग को लेकर स्थापना की अनुमति प्राप्त, प्रस्वीकृत माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षाकर्मियों ने पाटलिपुत्र लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत आरडीडीएस उच्च विद्यालय, नदवां से  नोटा जागरूकता प्रदर्शन व मोटर साइकिल रैली निकाली जो कई पंचायतों  व मसौढी बाजार होते हुए धनरूआ स्थित परमानन्द प्रभाकर उच्च विद्यालय, धनरूआ पहुंच कर सभा में तब्दील हो गई। रैली में शामिल लोग वेतन नहीं तो नोटा लो आदि नारे लगा रहे थे।

इस मौके पर उन्हों ने  अभिभावकों, दानदाताओं, बुद्धिजीवियों से भी नोटा का प्रयोग करने के लिए आग्रह किया। इस मौके पर महासंघ के प्रांतीय संयोजक सह महासचिव ने कहा कि सूबे में लगभग 38 वर्षो से  वित्तरहित 715  स्थापना की अनुमति प्राप्त ध्प्रस्वीकृत माध्यमिक  विद्यालय है और  प्रति वर्ष  9 लाख छात्र-छात्राएं इन विद्यालयों से उत्तीर्ण होते हैं। लेकिन  बिडंबना है कि 9 लाख छात्रों के भविष्य संवारने वाले  शिक्षकों को भूखे रहकरए परिवार व बच्चों के साथ झूठे वादे कर झूठी मुस्कान लिए जीना पड़ रहा है।  वेतन की आश में बहुतों शिक्षाकर्मियों की जीवन लीला  समाप्त हो गई। उनका आरोप था कि सरकार कई बार वित्तरहित समाप्ति की घोषणा की। कैबिनेट में फैसला भी लिया गया। लेकिन उसे लागू नहीं किया जा सका। 2008 में परीक्षाफल के आधार पर अनुदान देने की प्रक्रिया शुरू की गई। लेकिन वह भी वर्षो अन्तराल पर। अभी भी 7 साल का अनुदान शिक्षाकर्मियों को नहीं मिला है। कुछ का तो और भी अधिक समय से लंबित है। शिक्षाकर्मियों की दुर्दशा और बदहाली का अंदाजा इस बात से सहज ही लगाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि वेतन की मांग को लेकर बिहार प्रदेश माध्यमिक शिक्षक शिक्षकेतर कर्मचारी महासंघ द्वारा चलाए जा रहे आन्दोलन के क्रम में विभिन्न जिलों में 6ठा चरण का आंदोलन प्रदर्शन व मोटर साइकिल रैली निकाल कर नोटा पर मुहर लगाने की अपील की जा रही है।

महासंघ का निर्णय है कि जब तक  रोटी के लिए तरसते वत्तरहित शिक्षाकर्मियों के वेतन की मांग पूरी नहीं हो जाती तब तक इस 2019  की लोकसभा चुनाव से लेकर आने वाले 2020 के  विधानसभा चुनाव में तथा आवश्यकता पड़ी तो आगे भी दानदाताए अभिभावकों, बुद्धिजीवियों के साथ मिलकर हमारे शिक्षाकर्मी नोटा बटन ही दबायेंगें। नोटा की जागरूकता में और भी गति लायी जाएगी। घर-घर घूमकर शिक्षाकर्मी मतदाताओं से नोटा में वोट डालने के लिए आग्रह करेंगे।

सभा को महासंघ के प्रांतीय अध्यक्ष रामनरेश पांडेय, पटना जिला अध्यक्ष अरूण कुमार पप्पू,  प्रधान प्रेस प्रवक्ता आशुतोष कुमार सिंह, सचिव विकास कुमार, कमला प्रसाद, रवींद्र कुमार, विनय कुमार, राकेश कुमार समेत दर्जनों शिक्षाकर्मियों ने भी संबोधित किया।



Share To:

Post A Comment: