पटना, (रिर्पोटर) : पथ निर्माण मंत्री नन्द किशोर यादव ने कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सर्वोच्च न्यायालय की टिप्पणी के साथ छेड़छाड़, गलत और अमर्यादित तरीके से शीर्ष कोर्ट को जोड़ कर अक्षम्य अपराध किया है। राफेल मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर राहुल गांधी की गलत बयानी को सर्वोच्च न्यायालय ने तो गम्भीरता से लिया ही है, जनता की अदालत ने भी इस चुनाव में कांग्रेस को सबक सिखाने का संकल्प लिया है।

श्री यादव ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले में अपने मन से जोडक़र दिया गया राहुल गांधी का बयान उनकी कलुषित मानसिकता का परिचायक है। इससे यह भी स्पष्ट हो गया कि कानून और जनता की अदालत का राहुल गांधी को कोई ज्ञान नहीं है। राजनीति में जनता का और कोर्ट में कानून का फैसला सर्वमान्य होता है। दरअसल युवराज का यह उतावलापन कांग्रेस शासन काल में हुए अरबों-अरब रुपये के घपला-घोटाले पर परदा डाल आमजनों का ध्यान भटकाना था। पिछले तीस वर्षों के कांग्रेस शासन में 50 से अधिक घोटाले कांग्रेसियों ने किया। कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए सरकार के 2004-2014 के कार्यकाल में 5.58 लाख करोड़ रुपये का घोटाला किया गया जिसमें 1.86 लाख करोड़ का कोयला घोटाला, 1.76 लाख करोड़ का 2-जी घोटाला, 70 हजार करोड़ का सिंचाई घोटाला, 35 हजार करोड़ का कामन वेल्थ  घोटाला, 11 सौ करोड़ का स्कार्पियन पनडुब्बी घोटाला, 36 सौ करोड़ रुपये का अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला, 14 करोड़ का टाट्रा ट्रक घोटाला काफी चर्चित रहा।

श्री यादव ने कहा कि जिस राफेल मामले को राहुल गांधी ने अपना मुद्दा बनाया है उस सौदे को सुप्रीम कोर्ट ने क्लीन चिट देने के बाद पुनर्विचार के लिए भी तैयार हो गया है तब युवराज का यह उतावलापन। जाहिर है दाल में कुछ काला है अर्थात कांग्रेस राज में हुए करोड़ों-अरबों रुपये के घपला-घोटाले के दर्जनों मामले पर परदा डालने की कोशिश करना है। जनता कान खोल कर सब सुन रही है, खुली आंख से देख रही है। लोकसभा के चुनाव में पूरी तरह से जनता इसका जवाब देगी।


Share To:

Post A Comment: