पटना, (रिर्पोटर) : भारतीय खाद्य निगम श्रमिक संगठन (एच.एम.एस.) का तृतीय राष्ट्रीय अधिवेशन भारतीय नृत्य कला मंदिर, फ्रेजर रोड, निकट आकाषवाणी, पटना में सम्पन्न हुआ जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में आये हिन्द मजदूर सभा के राष्ट्रीय महासचिव  हरभजन सिंह सिद्धू ने अपने उद्घाटन भाषण में कहा कि आज पूरी दुनिया में उद्योगपतियों द्वारा मजदूरों का शोषण हो रहा है। भारत में सरकार की नीतियां ऐसी है कि हर क्षेत्र में ठेकेदारी प्रथा लागू की जा रही है जिससे ठेकेदार कम वेतन में मजदूरों से अधिक काम भी लेने लगे तथा उनका शोषण व उत्पीडऩ भी करने लगे,ऐसी स्थिति में श्रम संगठनों की जिम्मेदारियां बढ़ गई है अगर अभी ध्यान न दिया गया तो अपने वाली पीढ़ी हमें माफ नहीं करेंगी।

    मुख्य वक्ता के रूप में हिन्द मजदूर सभा उ. प्र. के महामंत्री उमाशंंकर मिश्र ने अपने संबोधन में सरकार की मजदूर एवं श्रम विरोधी नीतियों पर अपना विचार रखते हुए संघर्ष पर बल दिया।

    यूनियन के राष्ट्रीय महामंत्री तारनी कुमार पासवान ने अपने संबोधन में बताया कि संगठन के प्रयासों से भारतीय खाद्य निगम में भारत सरकार द्वारा राजपत्र जारी करके वर्ष 2010-11 में ठेकेदारी  प्रथा समाप्त कर दी गई जिसके बाद संगठन द्वारा ठेकेदारों के अधीन काम करने वाले श्रमिकों  को खाद्य निगम में नियमित किए जाने के संबंध में उ. प्र., पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल आदि प्रदेषो के श्रमिकों का विवाद विभिन्न प्रदेषों में स्थिति केन्द्रीय न्यायधिकरणों में चल रहा है। इसी दौरान कुछ तथाकथित लोगों द्वारा अन्य यूनियनों से मिलकर यूनियन के चुनाव पर आपत्ति दाखिल कर दी गई जिसके कारण विवाद के निर्णय में देरी हुई। यूनियन के महामंत्री के अथक प्रयासों से आपत्ति समाप्त हो गई। अब शीघ्र निर्णय का प्रयास किया जा रहा है। संगठन सदैव अपने सदस्यों के लिए संघर्ष करता रहा है और विष्वास दिलाते हैं कि एफ.सी.आई. के मजदूरों को उनका अधिकार दिला के रहेंगे। उन्होंने आह्वान किया कि हमारे मजदूर भाई विरोधियों द्वारा उड़ाई झूठी अपवाहों पर ध्यान न दें और अपने संगठन को मजबूत बनाएं। हमने संघर्ष किया और जीते हैं। भविष्य में भी जीतेंगे। महामंत्री ने कहा कि संगठन ने समान कार्य समान वेतन का निर्णय भारत सरकार से कराया परन्तु निगम द्वारा  उच्च न्यायालय से स्टे ले लिया इसमें  भी जल्दी ही निर्णय आयेगा। अधिवशन की अध्यक्षता  निजामुद्दीन उर्फ मन्टू ने की। अधिवेशन में पूर्व मंत्री, नरेन्द्र सिंह, महामंत्री अधुनु यादव, सियाराम सिंह कैलाश पासवान, भूषण पासवान, राजेन्द्र महतो, रामसूरत पासवान तथा जगदीश पासवान इत्यादि उपस्थित थे।    



Share To:

Post A Comment: