पटना : राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानन्द तिवारी ने कहा कि  हमें मजबूत नहीं बल्कि बेरोजग़ारों, किसानों तथा वंचित समाज के बेहतरी के लिए काम करने वाली सरकार चाहिए।  इंदिरा गांधी की सरकार जब कमजोर थी तो उसने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया था, लेकिन जब वह सरकार मजबूत हो गई तो देश में आपात काल लग गया, कर्पूरी ठाकुर या वीपी सिंह की सरकार कमजोर और मिलावटी सरकार थी, लेकिन उन्हीं सरकारों ने पिछड़ों को आरक्षण दिया। उन सरकारों के इस कदम से समाज और राजनीति में क्रांतिकारी बदलाव आ गया।

श्री तिवारी ने कहा कि नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व तीस वर्षों बाद 2014 में एकल बहुमत पाने वाली मज़बूत सरकार बनी,इस सरकार ने अपनी मजबूती का प्रदर्शन नोटबंदी और कमरतोड़ जीएसटी लागु कर किया। लेकिन जब यह सरकार जनता की नजऱों में कमज़ोर होने लगी तो जीएसटी कानून  में संशोधन हो गया। दलित-आदिवासी उत्पीडऩ क़ानून और तेरह प्वायंट रोस्टर के एवज में दो सौ प्वायंट रोस्टर का अध्यादेश आ गया।  इसीलिए कांशीराम जी कहा करते थे कि वंचित समाज के लिए मजबूत नहीं, मजबूर सरकार चाहिए।



Share To:

Post A Comment: