पटना, (रिर्पोटर) : बिहार निषाद संघ के तत्वावधान में प्रदेश कार्यालय में संघ के प्रदेश अध् यक्ष ई. हरेन्द्र प्रसाद निषाद की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गयी। संघ के प्रधान महासचिव रामाशीष चौधरी ने कहा कि सभी तबकों को साथ लेकर एवं न्याय के साथ विकास का लक्ष्य लेकर कार्य करने वाले मुख्यमंत्री ने 14 प्रतिशत आबादी वाले निषाद समाज से एक भी लोकसभा उम्मीदवार न बनाकर निषादों की राजनीति में भागीदारी शून्य कर दिया है। इन्होंने मछुआरा आयोग का अभी तक पुनर्गठन नहीं किया। मुख्यमंत्री से बिहार का पूरा निषाद समाज दुखित एवं खफा है और अप मानित महशूस कर रहे हैं। अवध कुमार चौधरी ने कहा कि पटना शहर के अन्तर्गत खुदरा मछली विक्रेता मछुआरों को जब तक सरकार द्वारा वैकल्पिक व्यवस्था नहीं करती है मछुआरों  को मछली बेचने पर रोक नहीं लगायें अन्यथा बाध्य होकर बिहार निषाद संघ पुरजोर विरोध करेगा। धीरेन्द्र कुमार निषाद ने मुख्यमंत्री से संख्या बल के अनुसार निषादों को राजनीति में भागीदारी की मांग की। क्योंकि 13 वर्षों से बिहार के निषाद जदयू का समर्थन करते आ रहा है।

इस अवसर पर चरितर चौधरी, शशि भूषण कुमार, सुरेश प्रसाद सहनी, विनय कुमार, जलेश्वर सहनी, दिलीप कुमार निषाद, कैलाश सहनी, रघुनाथ महतो, विनोद सहनी, शोभा देवी, कृष्णा देवी, मनोज चौधरी, रामप्रवेश निषाद समेत कई लोगों ने भाग लिया।


Share To:

Post A Comment: