पटना उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि 12 साल से ज्यादा समय तक गुजरात के मुख्यमंत्री और पिछले 5 साल से देश का प्रधानमंत्री रहने वाले नरेन्द्र मोदी के पास स्थायी सम्पत्ति के नाम पर गांधीनगर में विधायक के नाते सरकार द्वारा दी गई जमीन का एक टुकड़ा है। उसे भी उन्होंने पार्टी को देने का निर्णय लिया है। मगर बिहार के नेता प्रतिपक्ष जो उन्हें पानी पी-पी कर गाली देते नहीं थक रहे हैं अपने मात्र 4 साल के राजनीतिक जीवन और 29 वर्ष की आयु में 52 से अधिक सम्पत्ति के मालिक कैसे बन गए? नेता प्रतिपक्ष के पास कोई पुश्तैनी सम्पत्ति नहीं थी। इंटर तक की पढ़ाई नहीं कर पाए। क्रिकेट में भी विफल रहे। कोई उद्योग-व्यवसाय नहीं किया। 4 साल पहले पहली बार विधायक चुने गए। आखिर ऐसी क्या योग्यता थी और सदाचार की किस कमाई के बलबूते 52 सम्पत्ति के मालिक बन गए? नेता प्रतिपक्ष को खुलासा करना चाहिए कि दानापुर, सगुना की जिस 3 एकड़ जमीन पर उनका 750 करोड़ का माॅल बन रहा था उस जमीन का मालिक कैसे बने? दिल्ली के पाॅश डिफेंस काॅलोनी में 4 मंजिला आलीशान मकान, गोपालगंज में दो मंजिला मकान, पटना में दो-दो दो मंजिला मकान, टिस्को के दो मंजिला ब्लिडिंग सहित 47 भूखंडों के मालिक कैसे बने?


Share To:

Post A Comment: