पटना, (रिर्पोटर) :उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि राजद के स्वयंभू राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद के साथ उनके चार-चार सिपहसलार मो. शहाबुद्दीन, राजबल्लभ यादव, इलियास हुसैन और प्रभुनाथ सिंह हत्या, बलात्कार व भ्रष्टाचार के संगीन मामलों में जेल में बंद हैं। जो पार्टी जेल से चलती हो, जिसके सारे फैसले जेल से लिए जाते हो, उम्मीदवारों के नाम जेल से तय होते हो, क्या वैसी पार्टी के उम्मीदवारों की जमानत जनता को जब्त नहीं करा देनी चाहिए?

भ्रष्टाचार के मामले में हाथी पर चढ़ कर जेल जाने वाले लालू प्रसाद ने न केवल भ्रष्टाचार को बल्कि शहाबुद्दीन जैसे दुर्दांत अपराधी को संरक्षण देकर अपराध कर्म को भी महिमामंडित किया। बलात्कार के आरोपित राजबल्लभ यादव से घंटों एकांत में बातचीत करने से भी लालू प्रसाद को परहेज नहीं रहा।  आज पार्टी के पांच-पांच नेता जेल में हैं फिर भी किसी को पार्टी से निकालने की बात कौन कहे, पद से हटाने तक की हिम्मत किसी में नहीं है।

जिस पार्टी का अध्यक्ष ही भष्टाचार के चार-चार मामलों में सजायफ्ता हो, जिसकी राष्ट्रीय कार्यकारिणी का सदस्य तीहरे हत्याकांड सहित हत्या, अपहरण के अनेक मामलों में वर्षों से जेल में बंद हो, जिसके विधायकों की सदस्यता कोर्ट से सजा मिलने के बाद समाप्त की गई हो ऐसी पार्टी से जनता उम्मीद भी क्या कर सकती है। भ्रष्टाचार और अपराध में आकंठ डूबा राजद न तब और न अब सुधरने वाला है।

Share To:

Post A Comment: