पटना, (रिर्पोटर) :रिलायंस समूह द्वारा हालिया जारी एक बयान के आधार पर कांग्रेस को घेरते हुए भाजपा प्रदेश प्रवक्ता सह पूर्व विधायक श्री राजीव रंजन ने कहा “ अपने अध्यक्ष द्वारा रोजाना दिए जा रहे बेसिर-पैर के झूठे बयानों से कांग्रेस अपने ही जाल में तेजी से उलझती जा रही है. अब रिलायंस समूह ने बयान जारी कर कांग्रेस के लिए एक और मुसीबत खड़ी कर दी है. कांग्रेस राज में एक लाख करोड़ रु से ज्यादा के ठेके मिलने की जानकारी देते हुए रिलायंस ने राहुल से पुछा है कि क्या उन्हें यह ठेके दे कर कांग्रेस की सरकार क्रोनी कैपिटलिस्टों और बेइमान व्यापारियों की मदद कर रही थी? रिलायंस का यह पूछना स्वाभाविक हैं क्योंकि कांग्रेस अध्यक्ष लगभग रोज ही प्रधानमन्त्री मोदी पर निशाना साधने के चक्कर में अनिल अंबानी को चोर और बेईमान बता रहे हैं, वह भी बिना किसी तथ्य और सबूत के. गौरतलब हो कि 2004 से 2014 के दौरान अनिल अंबानी की रिलायंस ग्रुप को बिजली, दूरसंचार, सड़क, मेट्रो सहित ढाँचागत क्षेत्र की एक लाख करोड़ रुपए से अधिक की परियोजनाओं का ठेका मिला था. कांग्रेस राज में मिले इन्ही ठेकों की बदौलत पांच सालों में ही अनिल अंबानी की इलेक्ट्रिसिटी डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी देश की सबसे बड़ी इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी बन गई थी. अंबानी के इस खुलासे के बाद से कांग्रेस के नेताओं को कोई जवाब नही सूझ रहा है. न तो वह अंबानी को गलत साबित कर सकते हैं और न राहुल गाँधी को झूठा कहने की उनमे हिम्मत है.”

श्री रंजन ने आगे कहा “ यह किसी से छिपा नही है कि 2004 से 2014 के बीच कांग्रेस की अगुआई वाली यूपीए सरकार ने कई ऐसी कंपनियों को ठेके दिए जिन्होंने जरूरी प्रक्रियाओं का पालन ही नहीं किया था. इसी का नतीजा था कि इन दस वर्षों में देश में रिकॉर्ड तोड़ घोटाले हुए. बहरहाल मोदी सरकार ऐसे कई उद्योगपतियों और कंपनियों पर शिकंजा कसा है और उनसे लूट की रकम वापस भी वसूली जा रही है. कांग्रेस की सरपरस्ती में मोदी सरकार के होने वाले डिजायनर विरोध का यह भी एक प्रमुख कारण है. कांग्रेस पार्टी को हमारी चुनौती है कि अंबानी द्वारा पूछे सवालों का जवाब दे, नही तो देश से झूठ बोलने के लिए माफ़ी मांगे.”


Share To:

Post A Comment: