पटना, (रिर्पोटर) :मोदी सरकार के मंत्रीमंडल को सभी वर्गों का आदर्श मिश्रण बताते हुए भाजपा प्रदेश प्रवक्ता सह पूर्व विधायक राजीव रंजन ने कहा “ मोदी सरकार की हालिया गठित मंत्रिपरिषद और विभागों के बंटवारे को देखें तो उसमें स्पष्ट रूप से प्रधानमंत्री मंत्री नरेंद्र मोदी की विकास दृष्टि के साथ राजनीतिक दूरदर्शिता दिखाई देती है. पीएम मोदी ने अपनी जो नई टीम गठित की है उसमें जहां योग्यता, युवा शक्ति, अनुभव और कुशलता सफल मिश्रण दिखता है, वहीं क्षेत्रीयता का भी बेहतरीन तालमेल है. नई मंत्रिपरिषद को देखकर यह साफ पता चलता है कि मंत्रियों के नाम तय करते समय पीएम मोदी के दिमाग में दो ही चीज सबसे आगे थी, पहली काबिलियत और दूसरा मंत्रियों के अभी तक के किए काम. उदाहरण के रूप में नित्यानंद राय, प्रताप सारंगी और पूर्व विदेश सचिव एस जयशंकर का नाम देखा जा सकता है. अनुराग ठाकुर और देबाश्री चौधरी जैसे अन्य युवा नेताओं को मंत्रिमंडल में शामिल करना यह दर्शाता है कि पीएम मोदी का युवाओं में कितना विश्वास है. दरअसल मोदी सरकार के काम करने का अंदाज अभी तक बनी सभी सरकारों से बिलकुल जुदा है. पहले जहां मंत्री बनाने में जात-पात और धर्म देखा जाता था, वहीँ अब सेवाभाव को तरजीह दी जाती है. इसी तरह पहले जहां  लुटियन जोन में बैठे, खुद को भारत भाग्य विधाता मानने वाले कुछ ख़ास लोग मंत्रियों के नाम तय करते थे, वहीँ अब एक-एक सांसद का पिछला रिकॉर्ड खंगाल कर मंत्रियों के नाम तय किए जाते हैं. यही वजह है कि मोदी सरकार में कोई काम अटकता, भटकता और लटकता नही है, बल्कि तय समय से पहले ही पूरा हो जाता है. प्रधानमन्त्री मोदी खुद एक-एक योजनाओं की समीक्षा करते रहते हैं. यही कारण है कि मोदी सरकार की पिछली सारी योजनाओं ने सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित किए हैं. देश को आगे बढ़ाने का यही जूनून मोदी सरकार की इस पारी में दिखाई दे रहा है, तभी तो पहले जहां मंत्रालय बंटने से लेकर काम शुरू होने की प्रक्रिया में महीनों लग जाते थे, वहीँ मंत्रीमंडल बनने के दुसरे दिन ही मोदी सरकार ने एक्शन में आते हुए शहीदों, किसानों और छोटे दुकानदारों और स्वरोजगार करने वाली आम जनता के हित में धड़ाधड़ महत्वपूर्ण फैसले ले लिए. मोदी सरकार की नयी टीम को देखते हुए यह स्पष्ट है कि इस पारी में मोदी सरकार अपने पिछले सारे कीर्तिमानों को ध्वस्त करते हुए नए भारत के संकल्प को पूरा करने वाली है.”


Share To:

Post A Comment: