पटना, (रिर्पोटर) : जनतांत्रिक चेतना मंच एवं सुनीता कुमार फाउंडेशन के तत्वावधान में  स्वतंत्रता सेनानी एवं सामाजिक न्याय के पुरोधा स्व.  मुंगेरी लाल जी की 18वीं पुण्यतिथि  के अवसर पर मुंगेरी लाल स्मृति व्याख्यान एवं सेमिनार का आयोजन पटना स्थित  तारा मंडल के सभागार में आयोजित किया गया।

समारोह के मुख्य अतिथि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा ने गोष्ठी के संबोधन में मुंगेरीलाल जी के  राजनीतिक एवं सामाजिक योगदान एवं मुंगेरी लाल आयोग रिपोर्ट के मुख्य बिंदुओं पर प्रकाश डाला। अन्य विशिष्ठ अतिथियों ने भी मुंगेरी लाल जी के जीवन एवं आदर्श पर चर्च की और मंच के इस अभियान की सराहना की। मुख्य वक्ता जेएनयू के भूतपूर्व प्रोफेसर तथा इकोनोमिक एंड पोलिटिकल वीक्ली के सम्पादक गोपाल गुरु ने सेमिनार में कहा कि मुंगेरीलाल कमीशन समाज को न्याय पूर्ण बनाने  का प्रयास किया। आज इसकी जरूरत है। समाज का बदलाव ही ऐसे कमीशन का उद्देश्य होता है। आज भी समाज में भयंकर असमानता है और उसमें जाति का भी योगदान है उसके खिलाफ संघर्ष की जरूरत है।

मुंगेरी लाल कमिसन के वैचारिक पक्ष पर आयोजित एक सत्र में बिहार रिसर्च ग्रुप के संयोजक डा. राकेश रंजन दौलत राम कॉलेज, दिल्ली विवि के प्राध्यापक डा. दीपक भास्कर एवं जेएनयू छात्र संघ की पूर्व जेनरल सेक्रेटेरी एवं शोध छात्रा चिंटू कुमारी ने अपने विचार रखे। सत्र की अध्यक्षता दिल्ली विवि के हिन्दू कॉलेज में कार्यरत प्रो. रतनलाल ने की। अगले सत्र में जेएनयू के प्राध्यापक मणीन्द्र ठाकुर ने व्याख्यान देते हुय कहा कि सामाजिक न्याय का मूल्य उद्देश्य एक न्यायपूर्ण समाज बनाना है, जिसकी छवि मुंगेरी लाल कमिटी के रिपोर्ट में दिखती है। धन्यवाद ज्ञापन सुनीता कुमार फाउंडेशन के अध्यक्ष सुनीता कुमार पासवान ने किया।

Share To:

Post A Comment: