पटना, (रिर्पोटर) : हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा से के प्रदेश अध्यक्ष बी० एल०  ने राज्य में गिरती स्वास्थ्य व्यवस्था एवं कानून व्यवस्था को लेकरबिहार में राष्ट्रपति शासन की मांग की है । बैश्यन्त्री मुजफ्फरपुर अस्पताल के बगल में बड़ी तादाद में नर कंकाल मिलना राज्य सरकार के स्वास्थ्य सेवा से जुड़े उनके कार्यों पर बड़ा सवाल खड़ा करता है । इतनी बड़ी संख्या में नर कंकाल का मिलना यह साबित करता है कि स्वास्थ्य व्यवस्था और कानून व्यवस्था दोनों चरमराई हुई है। इस तरह के हालात पूरे राज्य हर जिले के अस्पतालों में देखने को मिलेगी । आज की स्थिति ऐसी है कि गरीब लोग अपने खेत बेचकर बच्चों का इलाज प्राइवेट अस्पताल में कराने को मजबूर हैं। लेकिन नीतीश सरकार को गरीब जनता की कठिनाइयों से कोई लेना देना नहीं। 

        बैश्यन्त्री ने कहा कि पूरे बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था एवं कानून व्यवस्था की हालत दिन-प्रतिदिन खराब होती जा रही है। लोग आज भय और आक्रांत की जिंदगी जीने को मजबूर हैं । बिहार में आए दिन स्थिति बद से बदतर होती जा रही है और बिहार के मुख्यमंत्री स्वास्थ्य कानून व्यवस्था सहित अन्य मुद्दों पर हर तरह से विफल दिखाई दे रहे हैं।

         बैश्यन्त्री ने राज्य की गिरती गिरती विधि व्यवस्था को देखते हुए बिहार में राष्ट्रपति शासन की हैं । उन्होंने स्पष्ट कहा कि नीतीश कुमार से अब बिहार की सत्ता संभालने वाली नहीं । बिहार में गिरती विधि व्यवस्था को सुधारने के लिए राष्ट्रपति शासन लगाना ही एकमात्र उपाय है । इन्हीं सब मुद्दों को लेकर हमारी पार्टी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा से के द्वारा 26 जून 2019 (बुधवार) को पटना के गर्दनीबाग धरना स्थल पर महाधरने का आयोजन किया गया है ।

 


Share To:

Post A Comment: