नवादा,  (रिर्पोटर) : नवादा के सदभावना चौक के निकट आशीर्वाद होटल के सभागार में वर्ल्ड विजन इंडिया तथा बिहार विकलांग अधिकार मंच के संयुक्त तत्वाधान में जिला स्तरीय दिव्यांग जनों के लिए जनसुनवाई का आयोजन राज्य आयुक्त नि:शक्तता ( दिव्यांगजन ) बिहार डॉ शिवाजी कुमार की उपस्थिति में की गई !
     आयुक्त महोदय को जिलों से आए सैकड़ों दिव्यांग जनों ने अपनी -- अपनी पीड़ा सुनाई ! जनसुनवाई में कई ऐसे दिव्यांग पहुंचे जिनकी समस्याएं दिव्यांगता प्रमाण पत्र / दिव्यांगता का प्रतिशत /  सामाजिक सुरक्षा पेंशन / दिव्यांग उपकरण / रोजगार / छात्रवृत्ति / बी०पी०एल कार्ड आदि से रही  । आयुक्त महोदय ने बारी-बारी से सभी दिव्यांग जनों की समस्याओं को गंभीरता से सुना और उसे तुरंत समाधान करने की बात करते हुए अपने अधिकारियों को निर्देश दिया  ।कुछ समस्याओं को तो वो खुद ही मौके से हल कर दिये ।  जनसुनवाई का संचालन , बिहार विकलांग अधिकार मंच , के राज्य सचिव श्री राकेश कुमार ने की ।वहीं  मुख्य अतिथि राज्य आयुक्त दिव्यांगजन , बिहार का स्वागत एवं कार्यक्रम की विषय प्रवेश वर्ल्ड विजन इंडिया नवादा के योजना प्रबंधक श्रीमान इजराईल नंदा ने की साथ हीं उन्होंने वर्ल्ड विजन नवादा द्वारा किए गए कार्यों से श्रीमान आयुक्त महोदय को अवगत कराया  ।
मुख्य अतिथि राज्य आयुक्त नि:शक्तजन , बिहार डॉ शिवाजी कुमार ने कहा कि दिव्यांग जनो के बीच वर्ल्ड विजन नवादा ने जो कार्य किया है उस कार्य को जितनी भी सराहना की जाए वह बहूत हीं कम होगा ! मौके पर सरकार के द्वारा चलाई जा रही योजनाओ की जानकारी दी साथ ही दिव्यांग अधिकार अधिनियम की धराओं को भी बताया  ।
   उन्होने आगे कहा कि वर्ल्ड विजन जैसी संस्थाओं को आगे बढ़कर समाज में दिव्यांग जनों की भागीदारी / उनके अधिकार के लिए कार्य करने की अति आवश्यकता है , वर्ल्ड विजन का यह कार्य दिव्यांग जनों की जीवन में परिवर्तन ला सकता है , वर्ल्ड विजन ऐसे कार्य को निरंतर करता रहे राज्य आयुक्त कार्यालय पटना बिहार , हमेशा सहयोग करेगी ! जनसुनवाई में कई संस्थाओं एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं की संयुक्त भागीदारी रही ! इस अवसर पर वर्ल्ड विजन इंडिया , नवादा तथा बिहार विकलांग अधिकार मंच के कई अधिकारी और पदाधिकारी भी उपस्थित रहे जिसमें  सुजीत कुमार , अमित कुमार ,  जेम्स कुजूर , सुश्री लिपि के अलावे मंच के नीतीश कुमार , सत्यदेव पासवान , राकेश कुमार पटेल ।

Share To:

Post A Comment: