मुजफ्फरपुर, (रिर्पोटर) : हेपेटाइटिस के प्रति जागरुकता पैदा करने के लिए हर वर्ष वल्र्ड हेपेटाइटिस डे 28 जुलाई को मनाया जाता है।  इस मौके पर पेट, आंत एवं लीवर रोग के प्रख्यात  डा.  अमृतेश कुमार ने बताया कि गैस्ट्रोगायनी क्लीनिक, की ओर से एल एस कॉलेज में आज फ्री स्क्रीनिंग कैम्प लगाया गया। उन्होंने कहा कि  हेपेटाइटिस लीवर में सूजन को कहते हैं। इसके कारण मुख्यत: वायरप, अल्कोहल एवं ड्रग्स हैं। हेपेटाइटिस बी एक संक्रामक रोग है। यह दो प्रकार की होती है- एक्यूट हेपेटाइटिस बी एवं क्रोनिक हेपेटाइटिस बी। एक्यूट हेपेटाइटिस बी ठीक हो जाता है। एचबीएसेजी 6 महीने के अन्दर ही निगेटिव हो जाता है। क्रोनिक हेपेटाइटिस बी  एचबीएसेजी 6 महीने के  बाद भी पॉजिटिव रहता है।  क्रोनिक हेपेटाइटिस बी से भी भयानक रोग लीवर सिरोसिपए लीवर केंसर या लीवर फैल्योर  होता है।  वल्र्ड हेपेटाइटिस डे के अवसर पर मुजफ्फरपुर के प्रख्यात  डा.  अमृतेश कुमार ने बताया कि गैस्ट्रोगायनी क्लीनिक, रोड नं.-03 जूरन छपरा, मुजफ्फरपुर में प्रत्येक महीने के 15 तारीख को हेपेटाइटिस बी एवं हेपेटाइटिस सी की रूटीन स्क्रीनिंग एवं हेपेटाइटिस बी का वैक्शीनेशन फ्री में किया जाता है। आज यह कार्यक्रम एल एस कॉलेज मुजफ्फरपुर में आयेाजित किया गया। इस अवसर पर स्क्रीनिंग, एलएफटी एवं फाइब्रो स्कैन की निशुल्क  व्यवस्था थी  जिसमें तकरीबन 300 लोगों की जॉच हुई।


Share To:

Post A Comment: