पटना, (रिर्पोटर) : स्वच्छ भारत अभियान की सफलता के बारे में ट्विटर के जरिए जानकारी देते हुए भाजपा प्रदेश प्रवक्ता सह पूर्व विधायक राजीव रंजन ने कहा “ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियान शुरू करते हुए खुद हाथों में झाड़ू थामी थी तो पूरे देश ने हाथ में झाड़ू थाम लिया था. प्रधानमन्त्री मोदी की अपील के बाद लोगों में इस अभियान से जुड़ने सी मच गयी. सरकारी अधिकारियों से लेकर, सीमा की रक्षा में जुटे वीर जवानों तक, बॉलीवुड कलाकारों से लेकर नामचीन खिलाड़ियों तक, बड़े-बड़े उद्योगपतियों से लेकर आध्यात्मिक गुरुओं तक, सभी इस नेक अभियान से जुड़ते चले गए और आज केंद्र की प्रतिबद्धता और लोगों के सरकार पर विश्वास से आज यह अभियान एक जन आंदोलन बन चुका है. इस अभियान की शुरुआत के बाद देश में शौचालय का इस्तेमाल न करने वाले लोगों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है.”


अपने दुसरे ट्वीट में श्री रंजन ने कहा “ याद करें तो जब प्रधानमंत्री मोदी ने जब स्वच्छ भारत अभियान की शुरूआत की थी, तब देश का एक भी राज्य खुले में शौच की समस्या से मुक्त नहीं था. लेकिन पिछले पांच वर्षों में स्थिति पूरी तरह बदल चुकी है. आज कुल मिलाकर देश के 30 राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में व्यक्तिगत घरेलू शौचालय (IHHL) कवर 100 प्रतिशत तक पंहुच चुका है, यानी लगभग 5.68 लाख गांवों, 622 जिलों, 30 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को खुले में शौच से मुक्त घोषित कर दिया गया है. गौरतलब हो कि एनडीए सरकार ने देश को खुले में शौच से मुक्त बनाने के लिए पिछले पांच वर्षों में रिकॉर्ड 9.6 करोड़ शौचालयों का निर्माण किया है. जिसके बाद देश का स्वच्छता कवरेज 99.35% के पास पंहुच गया है,  जबकि 2014 से पहले यह केवल 39 प्रतिशत था.


एक अन्य ट्वीट में भाजपा प्रवक्ता ने लिखा “ स्वच्छ भारत अभियान के अस्तित्व में आने के बाद से गंदगी से फैलने वाली बिमारियों पर भी जबर्दस्त रोकथाम लगी है. इस अभियान पर किए अपने अध्ययन में डब्ल्यूएचओ ने इससे डायरिया जैसे रोगों के मामलों में कमी आने की बात स्वीकारते हुए इस कार्यक्रम से तीन लाख से अधिक लोगों की जिंदगियां बच सकने का दावा किया है. WHO के मुताबिक इस अभियान से पेयजल आपूर्ति, स्वच्छता सेवाओं, व्यक्तिगत स्वच्छता में भी काफी सुधार आया है.”


Share To:

Post A Comment: