पटना, (रिर्पोटर) : उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने  ट्वीट कर कहा कि  राहुल गांधी ने जनता को गुमराह कर लोकसभा का चुनाव जीतने की कोशिश में सारी मर्यादाओं को तोड़ते हुए न केवल देश के ईमानदार प्रधानमंत्री को चोर कहा, बल्कि मोदी सरनेम वाले लाखों लोगों को चोर बताया था, इसलिए उन्हें कोर्ट में पेश होना पड़ा। अब मानहानि के मामले में माफी मांगने के बजाय वे खुद को पीडि़त दिखाने के लिए भाजपा पर बेवजह परेशान करने का आरोप लगा रहे हैं।

श्री मोदी ने कहा कि  जो दल लोकतंत्र की बात बड़े जोर से बोलता है, उसे यह भी बताना चाहिए कि स्थापना के बाद से 23 साल तक उसने एक ही व्यक्ति को राष्ट्रीय अध्यक्ष क्यों बनाये रखा? इतना ही नहीं, राष्ट्रीय अध्यक्ष के सजायाफ्ता होने, जेल जाने और गंभीर रूप से बीमार होने के बाद भी न उन्हें हटाया गया, न उनके परिवार के बाहर से नया नेतृत्व उभरने दिया गया। लोकसभा चुनाव में करारी हार भी ऐसे दल को लोकतंत्रिक मूल्यों के प्रति लौटाने में नाकाम रही, फिर भी वे गरीबों को धोखा देकर सत्ता में लौटने के सपने देख रहे हैं।

श्री मोदी ने कहा कि  लाठी में तेल पिलाने, जाति-धर्म के नाम पर जोड-तोड़ करने और बेनामी सम्पत्ति से जुटाये पैसे चुनाव में झोंक कर भी जो लोग ईमानदार मतदाताओं को खरीद नहीं पायेए वे अपनी महापराजय स्वीकार करने के बजाय वोटर को बिकाऊ और कार्यकर्ताओं को लालची बता रहे हैं। जनादेश पर लांछन लगाने वाले लोग जनता का भरोसा नहीं जीत सकते।

Share To:

Post A Comment: