पटना, (रिर्पोटर) : उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी  ने  ट्वीट कर कहा कि  जब विपक्ष के पास न कोई मुद्दा होता है,न कोई तर्क, तब लोग विधान सभा की कार्यवाही में बाधा डालते हैं। नेता विरोधी दल 33 दिन तक गायब रहते हैं और राजधानी में प्रकट होकर भी सदन में नहीं आते, लेकिन लोकतंत्र की रक्षा के नाम पर यात्रा की नौटंकी करने में आगे रहते हैं। राजद के लोग क्या प्रश्नकाल को बाधित कर संविधान बचा रहे हैं? 
श्री मोदी ने कहा कि  हाल के लोकसभा चुनाव के दौरान तेजस्वी यादव वोट देने नहीं गए और उनके बड़े भाई मतदान केंद्र पर गए तो मीडिया के छायाकार से मारपीट की। ऐसे आचरण के बावजूद राजद नेतृत्व ने इनका बचाव किया। दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न साध्वी के आपत्तिजनक बयान को माफ किया, न नगर निगम कर्मचारियों से मारपीट करने वाले विधायक के प्रति कोई नरमी दिखाई। किसी दल का चरित्र उसके शीर्ष नेतृत्व के आचार-विचार से जाना जाता है।

Share To:

Post A Comment: