सावन माह चल रहा है। सनातन धर्म में इस माह को बहुत ही पवित्र माना गया है। भगवान शिव को सावन माह बहुत ही प्रिय होता है। मान्यता है कि इस माह में भगवान शिव साक्षात शिवलिंग में निवास करते हैं। इस सम्बन्ध में अन्तर राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त ज्योतिष योग शोध केन्द्र, बिहार के संस्थापक दैवज्ञ पंo आरo केo चौधरी उर्फ बाबा-भागलपुर, भविष्यवेत्ता एवं हस्तरेखा विशेषज्ञ ने सुगमतापूर्वक बतलाया कि:- सावन महीने में सोमवार का विशेष महत्व होता है। सोमवार का दिन भगवान शिव का माना जाता है। सावन महीने में ही नाग पंचमी का त्योहार मनाया जाता है। नागपंचमी हर साल पंचमी तिथि को होती है। इस बार नागपंचमी पर बहुत ही दुर्लभ योग बन रहा है। यह ऐसा योग है जो 125 वर्षों के बाद आ रहा है। सावन के तीसरे सोमवार को नाग पंचमी होगी। नाग पंचमी के दिन सोमवार होने से इस पर्व का फल कई गुना बढ़ जाएगा। इस संयोग से संजीवनी महायोग बनेगा। सावन के महीने में सोमवार के दिन नाग पंचमी का संयोग बहुत ही दुर्लभ होता है। तीसरा सोमवार अद्भुत मुहूर्त में आ रहा है जो कि पांच अगस्त को पड़ेगा। यह दिन श्रावण के श्रेष्ठ मुहूर्तों में एक है। इस दिन पूर्णा तिथि है, सोम का नक्षत्र हस्त भी विद्यमान है और सिद्धि योग के साथ-साथ वर्ष की श्रेष्ठ पंचमी यानी नाग पंचमी भी है। सावन शुक्ल पक्ष की पंचमी को नागदेव के पूजन करने की परंपरा है। नाग भगवान शिव के आभूषणों में एक है। इस दिन रुद्राभिषेक करने और कालसर्प दोष का पूजन करना शुभ व विशेष फलदायी माना जाता है।


Share To:

Post A Comment: