पटना, (रिर्पोटर) :  कश्मीर समस्या के लिए तीन दलों को दोषी बताते हुए भाजपा प्रदेश प्रवक्ता सह पूर्व विधायक राजीव रंजन ने कहा “ यह अजीब लगता है कि धारा 370 हटने के बाद जहां देश की अधिकांश जनता खुशियाँ मना रही है, वहीँ कांग्रेस, नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी अपनी छाती पीट पाकिस्तानियों जैसी बयानबाजी कर रहे हैं. ऐसे में लोग सोच रहे हैं कि आखिर देश की ख़ुशी इन तीनों दलों को बर्दाश्त क्यों नही हो रही है? यह जानते हुए भी कि धारा 370 से कश्मीरियों की बजाए पाक परस्त अलगाववादीयों को मदद पंहुचा रही है, फिर भी इन दलों ने आज तक 370 को क्यों बहाल रखा हुआ था? इसका सीधा जवाब यही है कि धारा 370 इन दलों के लिए दुधारू गाय के समान थी, जिस की आड़ में इन तीनों ने कश्मीर को लूट-खसोट का अड्डा बना कर रखा हुआ था, और इस धारा के हट जाने का सीधा असर इनके भ्रष्टाचार पर पड़ने वाला है. बताते चलें कि 370 के कारण संपूर्ण भारत में लागू कई कानून कश्मीर में लागू नही हो पाते थे, जिसके कारण इडी और सीबीआई जैसी संस्थाएं वहां ठीक से काम नही कर पाती थी. भारत सरकार द्वारा वहां भेजे जाने वाले अरबों रुपयों का भारत सरकार को ठीक से हिसाब भी नही मिल पाता था. लेकिन अब 370 हट जाने के बाद अब वहां भी भ्रष्टाचार के खिलाफ ठीक वैसी ही कारवाई हो सकती है, जैसे पूरे देश में हो रही है. यही वजह है कि यह लोग केंद्र सरकार के इस ऐतिहासिक निर्णय के खिलाफ दुष्प्रचार कर रहे हैं. भ्रष्टाचार के खिलाफ मोदी सरकार के कड़े रुख को जानते हुए, इन्हें डर है कि कहीं केंद्र सरकार पिछले 70 साल में इनके द्वारा कश्मीर में किए कारनामों की पोल न खोल दे. हकीकत में इनका डर सही भी है. लोग जानते हैं कि मोदी सरकार के पिछले 5 सालों में सबसे ज्यादा शामत घोटालेबाजों और राष्ट्रविरोधी तत्वों की ही आयी है और अब 370 हटने के बाद कश्मीर में भी इन भ्रष्टाचारियों की बैंड बजनी तय है. इसके अलावा लोग जानते हैं कि अलगाववादीयों के साथ भी इन तीनों दलों की दांत काटी दोस्ती रही है. इन्हें पता है इस धारा के हटने के बाद अब उनकी भी खैर नही है. यही वजह है कि जनभावना को दरकिनार कर यह तीनों दल सरकार की इस निर्णय के खिलाफ जनता को गुमराह करने का हर संभव प्रयत्न कर रहे हैं.”   


Share To:

Post A Comment: