पटना, (रिर्पोटर) : कश्मीर मुद्दे पर विपक्ष को एक बार फिर से निशाने पर लेते हुए भाजपा प्रवक्ता सह पूर्व विधायक श्री राजीव रंजन ने कहा “ धारा 370 हटाने के प्रधानमन्त्री मोदी और अमित शाह जी के ऐतिहासिक  फैसले ने कई दलों के चेहरे से नकाब खींच लिया है. जहां पूरा देश और दुनिया भारत सरकार के इस निर्णय की सराहना करते हुए इससे कश्मीर का पुनर्जन्म होने का दावा कर रहे हैं, वहीँ कांग्रेस और कुछ अन्य दल सीधे-सीधे पाकिस्तान के सुर से सुर मिला रहे हैं. इन दलों के नेताओं ने इस मसले पर जिस तरह से विवादित बयान दिए हैं, उससे पाकिस्तान के आंखों में चमक लौट आई है. वहां के कई नेताओं ने इस बात को स्वीकार भी किया है. कुछ दिनों पहले पाकिस्तान के नेता व पत्रकार मुशाहिद हुसैन ने वहां के एक टीवी चैनल पर कई कांग्रेसी नेताओं के पाकिस्तान से सहानुभूति रखने की बात स्वीकारते हुए भविष्य में इनसे मदद मिलने की उम्मीद जताई थी. इसके पहले पाकिस्तान के पूर्व उच्‍चायुक्‍त अब्दुल बासित ने एक इंटरव्यू में कांग्रेस समर्थक एक पत्रकार का बकायदे नाम लेते हुए उनके पाकिस्तान के पक्ष में लिखने की जानकारी दी थी. कांग्रेस बताए कि क्या उनकी पार्टी की कश्मीर मसले पर पाकिस्तान के साथ कोई गुप्त डील है? आखिर क्यों उनकी पार्टी को पाकिस्तान के लोग आखरी उम्मीद के तौर पर देख रहे हैं? पाकिस्तानी नेताओं के बयानों से एक बात आईने की तरफ साफ़ है कि भारत में रह कर पाकिस्तान की तरफदारी करने वालों की कमी है.।

 

श्री रंजन ने कहा “ कश्मीर मसले पर पाकिस्तान के खड़े होकर कांग्रेस ने आज तक का अपना सबसे आत्मघाती कदम उठा लिया है. लोगों को अब समझ में आ चुका है कि धारा 370 को लागू करने और इसे आज तक बनाए रखने में किसका फायदा हो रहा था. दूसरी तरफ कांग्रेस में इस मसले पर भगदड़ मची हुई है, इनके कई नेताओं ने पहली बार पार्टी स्टैंड से अलग हट कर इस मुद्दे पर सरकार का समर्थन करने की हिम्मत दिखाई है. इससे पता चलता है कि गाँधी परिवार की पकड पार्टी पर धीरे-धीरे कमजोर हो रही है. कांग्रेस के हालिया निर्णयों को देखते हुए भविष्य में भी उसके रवैये में कोई परिवर्तन आने की उम्मीद नही है, जिससे जल्द ही इनकी पार्टी में टूट पड़ने की संभावना है.।


Share To:

Post A Comment: