पटना, (रिर्पोटर) : बिहार कृषि विश्वविद्यालय से 90.8 मेगाहर्टज पर एफएम ग्रीन के प्रसारण शुरू होते ही भागलपुर के लोगों के हाथों में फिर से रेडियो देखा जाने लगा है। विश्वविद्यालय की स्थापना दिवस के अवसर पर बिहार के कृषि मंत्री डा. प्रेम कुमार ने भागलपुर के लोगों को इस सामुदायिक रेडियो को समर्पित किया। 20 से 25 किलोमीटर की परिधि में इस एफएम रेडियो को सुना जा रहा है, फिलहाल 2 घंटे के कार्यक्रम नियमित रूप से प्रसिरत होने लगा है, आगे चलकर कार्यक्रम की अवधि बढ़ाये जाने की योजना है। कार्यक्रमों में हर समुदाय के रुचि और जरूरत के हिसाब से कार्यक्रम प्रसारित किए जा रहे है। कृषक समुदाय के लिए उन्नत कृषि, कृषि की कहावतें, हमारे सफल किसान, मौसम आज-कल प्रसारित हो रहे हैं वहीं युवा समुदाय के लिए करियर वाच, महिलाओं के लिए लेडीज फस्र्ट, बच्चों के लिए बाल मंच के अलावा लोकगीतों पर आधारित कार्यक्रम अंग-उमंग प्रसारित किया जा रहा है।
कृषि मंत्री ने कहा कि सामुदायिक रेडियो स्टेशन ऐसे समुदायों द्वारा परिचालित और संचालित होते हैं और उनका स्वामित्व भी उनका ही होता है, जिनके लिए वे सेवा प्रदान करते हैं। सामुदायिक रेडियो लाभ कमाने के लिए नहीं होते और यह किसानों, किसान समूह और समुदायों की अपनी विविध कहानियों को कहने, अनुभवों को बांटने की प्रक्रिया को सुगम बनाते हैं और संचार माध्यम से संपन्न दुनिया में सक्रिय स्रष्टा और संचार माध्यम के सहयोगी बनते हैं।
उन्होंने कहा कि रेडियो संचार का सबसे पुराना, सबल और सुलभ माध्यम रहा है, मोबाइल क्रांति के साथ ही रेडियो क्रांति ने अपने आप जगह बना ली है क्योंकि सभी मोबाइल एफएम रेडियो से युक्त होते हैं, ऐसे में 90.8 एफएम ग्रीन लोगों के बीच आसानी से जगह बनाने में कामयाब रहेगा। डा. कुमार ने कहा कि 90.8 एफएम ग्रीन भागलपुर के लोगों का अपना रेडियो स्टेशन होगा, यहां सिर्फ लोगों की बात होगी, इस रेडियो से लोग जुड़ाव महसूस करेंगे, मौसम अनुरूप खेती, वैज्ञानिक खेती, मौसम पूर्वानुमान के अलावा यहां वह सब कुछ मिलेगा जिसे श्रोता पसंद करते हैं।

Share To:

Post A Comment: