पटना, (रिर्पोटर) : चन्द्रगुप्त प्रबंधन संस्थान पटना के हॉल में आयोजित 15 दिवसीय वन महोत्सव के समापन समारोह को सम्बोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने पेड़ लगा कर पृथ्वी को बचाने का आह्वान किया तथा कहा कि 250 मेगावाट का सोलर पॉवर प्लांट लगाने का टेंडर किया जा चुका है। सरकारी भवनों पर भी बड़े पैमाने पर सोलर पॉवर प्लांट लगाए जायेंगे। जल स्रोतों को पुनर्जीवित करने के साथ ही वर्षा जल के संचयन का अभियान भी चलाया जा रहा है।

श्री मोदी ने कहा कि मत्स्य पुराण के अनुसार एक पेड़ 10 संतानों के बराबर है। हमारे पूर्वज प्रकृति के साथ जीना जानते थे। एक पेड़ साल में 100 किग्रा ऑक्सीजन छोड़ता है जबकि एक मनुष्य को 740 किग्रा ऑसीजन की जरूरत होती है। 7.8 पेड़ों से एक व्यक्ति की ऑसीजन की जरूरत पूरी होती है। एक पेड़ अपने जीवन में मनुष्य को एक करोड़ से ज्यादा का लाभ देता है। भारत दुनिया का अकेला ऐसा देश है जहां पेड़-पौधे, नदी, पहाड़, जीव-जंतु आदि की पूजा करने की परम्परा है। तुलसी विवाह और वट.साबित्री की पूजा कर हम प्रकृति संरक्षा का संदेश देते हैं।

उन्होंने प्रबंधन संस्थान के छात्र-छात्राओं का आह्वान किया कि वे आउट ऑफ बॉक्स जाकर सोंचे तथा जीवन शैली व आदतों को बदलने की दिशा में कार्य करें। वन महोत्सव केवल पौधारोपण का अभियान नहीं है बल्कि इसके जरिए दुनिया के लिए चुनौती बन चुके जलवायु परिवर्तन के कुप्रभावों से मुकाबला करना है। आम लोगों के बीच ग्रीन वैल्यू स्थापित करना है। अपनी आदतों में सुधार कर पानी व बिजली की खपत कम करने की जरूरत है। इसके लिए छात्र थिंक ग्लोब्ली, एक्ट लोकली की तर्ज पर काम करके छोटी-छोटी शुरूआत और पहल से बड़ा परिवर्तन ला सकते हैं। औद्योगिक क्रान्ति के बाद यह सोचा गया कि यह दुनिया केवल मनुष्यों के लिए है, जिसका कुपरिणाम आज हम भुगत रहे हैं। हमें विकास पर्यावरण की कीमत पर और प्रकृति से संघर्ष करके नहीं बल्कि सह अस्तित्व और तालमेल बैठा कर चाहिए।


Share To:

Post A Comment: