पटना, (रिर्पोटर) : पूर्व वित्तमंत्री, भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के असामयिक निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने उन्हें बेहतरीन रणनीतिकार, कुशल चुनाव प्रबंधक, प्रखर प्रवक्ता, राजनीति से लेकर क्रिकेट की बारीकियों के जादूगर, उदारवादी परंतु राष्ट्रवादी विचारों से ओतप्रोत, मित्रता निभाने वाला राजनेता बताया हैं। उन्होंने अपने शोक संदेश में कहा है कि अरुण जेटली की कमी को वर्षों तक पूरा नहीं किया जा सकेगा। श्री मोदी ने कहा है कि अगर अरुण जेटली नहीं होते तो जीएसटी लागू करना कठिन होता। विभिन्न विचारों के बीच सहमति बनाने में वे माहिर थे। अनेक बार राजनीतिक संकट उत्पन्न होने पर बिहार के लिए भी जेटली जी संकटमोचक साबित हुए थे। उनसे मेरा चार दशक पुराना संबंध था। जब वे दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ के उपाध्यक्ष निर्वाचित हुए थे तो पहली बार उनसे मुलाकात हुई थी। बाद के दिनों में जेपी आंदोलन, आपातकाल, विद्यार्थी परिषद में कार्य करने के दौरान उनसे अक्सर भेंट होती रहती थी। अरुण जेटली मेरे मेंटर, मार्गदर्शक, अभिभावक और मित्र थे। दोस्तों की मदद करने में हमेशा तत्पर रहते थे। मृदुभाषी, मिलनसार अरुण जेटली का विभिन्न राजनीतिक विचारधारा के लोगों से भी निकट का संबंध था। उनका निधन पार्टी, देश और मेरी ऐसी व्यक्तिगत क्षति है जिसकी निकट भविष्य में भरपाई संभव नहीं है। दुख की इस घड़ी में ईश्वर से प्रार्थना है कि उनके तमाम शुभचिन्तकां, समर्थकों, पार्टी के करोड़ों कार्यकर्ताओं के साथ ही परिजनों को धैर्य व दिवंगत आत्मा को असीम शांति प्रदान करें।    स्व. जेटली के अंतिम दर्शन के लिए उपमुख्यमंत्री श्री मोदी शनिवार की शाम 5.50 बजे नई दिल्ली के प्रस्थान किए। वहां होने वाले उनके अंतिम संस्कार में भी उपमुख्यमंत्री शामिल होंगे।


Share To:

Post A Comment: