पटना, (रिर्पोटर) : राष्ट्रीय जनसंभावना पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र सहनी द्वारा मुख्य  कार्यालय, पटना में वीरांगना फूलन देवी की जन्म दिन को मनायी गयी। श्री सहनी ने फूलन देवी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि फूलन देवी का जन्म 10 अगस्त, 1963 को एक गरीब परिवार में हुआ था। फूलन देवी जीवन भर गरीब, कमजोर वर्ग एवं दबे-कुचले लोगों के लिए संघर्ष करते रहे। वीरांगना फूलन देवी को अपने जीवन काल में कई प्रकार के सामाजिक एवं शारीरिक यातनाएं झेलनी पड़ी। इसके लिए वीरांगना देवी ने एक गिरोह खड़ा किया जिसका मुखिया वे खुद बन गयी। राष्ट्रीय सचिव राजीव कुमार ने कहा कि आमतौर पर फूलन देवी को डकैत के रूप में गरीबों का परोपकारी समझा जाता है। वह पहली बार सुर्खियों में तब आयी जब उन्होंने ठाकुरों के 22 लोगों को एक साथ नरसंहार किया। राष्ट्रीय सचिव अनिल सहनी ने कहा कि 1994 में सपा सरकार ने उन्हें रिहा कर दिया तथा 1996 में भदोही सीट से सांसद चुनी गयी। इनकी हत्या 25 जुलाई, 2001 को समशेर सिंह राणा के द्वारा की गई थी।

इस मौके पर विमल कान्त झा, कैलाश सहनी, बिन्दु सहनी, लक्ष्मी देवी, रामजी पासवान, राज कुमारी देवी, विनोद राम, रामजी पासवान, राम सेवक विन्द, छोटे सहनी, नरेश दास, सुखदेव भगत, नीतु कुमारी राम, रामचन्द्र बिन्द, गंगा केवट, षिवजीत कुमार, ऋषिमुनि बढ़ई, पुष्पा देवी कुशवाहा, राजकुमारी यादव, सुजीत यादव,  विष्वकर्मा महतो, अजय कुमार पासवान, जनार्दन सिंह, नीलम देवी, प्रेमनाथ मालाकार समेत अन्य लोग उपस्थित थे।


Share To:

Post A Comment: