पटना, (रिर्पोटर) : पूर्व सांसद डा. अरूण कुमार ने कहा कि प्रदेश में अराजकता की स्थिति बनी हुई है और राज्य सरकार हाथ पर हाथ धरकर बैठी है। मीडिया के सहारे जिन्दा रहना मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का तिकड़म खेल है। सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग हो रहा है। गेट टू गेदर में पत्रकारों से वार्तालाप कर डा. कुमार ने कहा कि बिहार में माफियाओं का बोलबाला है। सुशासन की सरकार में दबंगों द्वारा अराजकता फैलाया जा रहा है। आवाज उठानेवालों को सरकारी काम में बाधा डालने का आरोप लगाकर जेल भेज दिया जाता है। प्रदेश में लॉ इन ऑर्डर समाप्त है। बालू एवं शराब माफियाओं का बोलबाला है। आईपीएस अधिकारी, नेता के वाहन का उपयोग कर रह है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में प्रोफेसर नहीं है। राज्य सरकार के पास 84 हजार शिक्षकों का रिकॉर्ड नहीं।
बिहार नव निर्माण मोर्चा के संरक्षक सह पूर्व मंत्री नरेन्द्र सिंह ने कहा कि मोर्चा का मुख्य उद्देश्य है नया बिहार बनाने का। बिहार की वर्तमान कानून व्यवस्था पिछले दिनों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। बिहार बाढ़ एवं स ुखाड़ का दंश झेल रही है जिसका निदान करने में राज्य की सरकार विफल है। किसानों को लाभकारी मूल्य नहीं मिल रहा है। सरकार समर्थन मूल्य निर्धारित करती है लेकिन अनाज का खरीददारी नहीं होता। सहकारिता विभाग में लूट है। उन्होंने कहा कि राज्य के विद्यालयों को खिचड़ी केन्द्र न बनाकर वहां योग्यताधारी शिक्षकों को बहाल किया जाये ताकि छात्रों को समुचित शिक्षा मिल सके। कल कारखाने के अभाव में यहां के बेरोजगार दर-दर भटकने को मजबूर हैं। राज्य सरकार अपना दायित्व नहीं निभा रहा है।
इस अवसर पर पूर्व मंत्री रेणु कुशवाहा, विजय कुशवाहा, राजीव रंजन, शशि सिंह, पप्पू शर्मा, धनंजय कुार सिंह समेत अन्य उस्थित थे।

Share To:

Post A Comment: