पटना, (रिर्पोटर) : एस जे वी एन थर्मल पावर बक्सर ताप विघुत संयत्र के माध्यम से बिहार को 2023 तक 5000 मेगावट बिजली उपलब्ध करायेगी। बिहार में उत्पादन होने वाला बिजली का 85 प्रतिशत बिजली प्रदेश को मिलेगा। होटल मोर्या में एस जे वी एन के अध्यक्ष एंव प्रबंधक निदेशक नन्द लाल शर्मा ने पत्रकारो से वार्तालाप कर कहा कि एस.जे.वी.एन.का बिहार में विद्युत आपूर्ति को लेकर मार्च 2013 में बिहार स्टेट पावर होल्ंिडग तथा बिहार इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी के साथ एम ओ यू पर साईन हुआ है। एस. जे. वी.2023 तक 5000 मेगावट बिजली उत्पादन में मील का पत्थर साबित होगा। पूरे देश में विद्युत का उत्पादन 3 लाख 60 हजार मेगावट है। वहीं बिहार में 750 मेगावट है। इस परियोजना के चालू होने पर बिहार को करीब दूगना बिजली मिलेगी। उन्होंने कहा कि बक्सर को करीब दूगना बिजली मिलेगी। उन्होंने कहा कि बक्सर में 1320 मेगावट की थर्मल पावर स्थापित किया जा रहा है। इस परियोजना से उत्पादन होने वाली विद्युत का 85 प्रतिशत बिजली बिहार को मिलेगा। इस परियोजना कर प्लानिंग नवीनतम पर्यावरणीय मानकों पर खरा उतरने के लिए खास विशेषताओं के साथ किया गया है। इससे करीब 2400 व्यक्तियों प्रत्यक्ष एंव अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा। इसका पहला यूनिट मार्च 2023 एंव दूसरा यूनिट सितम्बर 2023 तक चालू हो जायेगी। यहां से उत्पन्न बिजली उपभोक्ताओ को करीब 4रू प्रति यूनिट के दर से उपलब्ध होगी। आगे उन्होने कहा कि देश के अन्य स्थानो पर हाइड्रो प्रोजेक्ट,विंड एंव सोलर प्रोजेक्ट के माध्यम से बिजली आपूर्ति के लिए काम हो रहा है। एस.जे.बी.एन  2023 -24 तक 5 हजार 2030 तक 10 हजार एंव 2040 तक 25 हजार मेगावट बिजली उत्पादन का लक्ष्य है। इसके अलावे नेपाल एंव भुटान में प्रोजेक्ट काम कर रही है। नेपाल के समखुआ अन्तर्गत दोहान में अरूण-3 के माध्यम से 2022-23 तक 900 मेगावाट बिजली उत्पादन करेगा। नेपाल से आनेवाला बिजली को मुज्जफरपुर थर्मल पावर से अटेच किया जायेगा। इस परियोजना से भारत-नेपाल सीमा पर बथनाहा तक 217 किलोमीटर 400 के.वी.,डीसी ट्रासमिशन लाईन भी निर्माणाधीन है। इस अवसर पर एस.जे.वी.एन. के सुरेश चन्द्र अग्रवाल ,श्रीमति गीता कपूर,राजेश कुमार बंसल,अमरजीत सिंह बिन्द्रा,सुरेन्द्र पाल बंसल,सुरेन्द्र लाल शर्मा समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।  


Share To:

Post A Comment: