पटना, (रिर्पोटर) : मोदी सरकार जब से सत्ता में आयी तब धीरे धीरे दलितों को आरक्षण खत्म कर  रही है। जहां रोजगार देने की बात थी वहां कल कारखाना प्रतिदिन बंद हो रहा है। लााखों मजदूर सडक़ पर है आज या कल जनता को मोदी जी का सपना दिखाई देगा। नोटबंदी और जीएसटी से भारत तबाह हो जायेगा। लोकतंत्र अपने आप खत्म हो जायेगी। ईवीएम को हटाकर बैलेट पेपर से क्यों नहीं वोट कराया जाता है जबकि पूरी दुनिया ईवीएम को बंद कर दिया है जिसे भारत आज तक ढोने का काम कर रही है। जाति जनगणना भी अधर में पड़ा है। ये बातें आज बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीएल मातंग ने पार्टी के राज्य कार्यकारिणी की बैठक में कही।

उन्होंने कहा कि केन्द्रीय मंत्रिपरिषद में जदयू सांसद को इसलिए नहीं लिया ताकि नीतीश कुमार का दबदबा बढ़ जाये। कांग्रेस ने आजादी के इतने सालों तक दलितों को ठगा और मोदी आने वाला दिनों में दलितों का आरक्षण खत्म करेगा तो वह कहीं का नहीं रहेगा। जनता क्षण भ्भर  सुख के लिए सरकार के विरोध में नहीं बोले लेकिन आये दिन जनता बैकफुट पर आ जायेगा। मोदी जी का सारा योजना टाय टाय फीस है किसानों को कुछ लाभ दे दिया तो उसी में वे खुशहाल है मगर आने वाला इससे भी भयावह होने वाली है। बैठक की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष अमित अम्बेडकर ने की।

उन्होंने बताया कि आगामी 15 सितम्बर से ईवीएम को लेकर परिवर्तन यात्रा निकालेगी जिससे ईवीएम का भंडाफोड़ हो सके। जिले से बूथ लेवल तक सक्रिय सदस्यता भी की जायेगी। जातीय जनगणना को लेकर सारे प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर पर जन जागृति चलायी जायेगी, जिससे 2021 में जातीय जनगणना हो सके एवं 52 प्रतिशत पिछड़ी जातियों को न्यायपालिका, कार्यपालिका में इनकी भागीदारी हो सके। 89 सचिवों, सेन्ट्रल विश्वविद्यालयों एवं न्यायपालिका में ओबीसी की नगण्य स्थिति पर जागृति के लिए एक जनगणना चलाया जायेगा।

समीक्षा बैठक में प्रदेश महासचिव विनय कश्यप, उपाध्यक्ष सुरेश यादव, पूनम कुशवाहा, रीना रागिनी, युवा अध्यक्ष मोनी पासवान, प्रदेश महासचिव रामदेव शाह प्रेमी, चन्द्रभूषण प्रसाद चन्द्रवंशी, ई. रंजीत कुमार, ब्यास मांझी, बैजनाथ यादव, नंद कुमार, अमन पासवान आदि उपस्थित थे।

Share To:

Post A Comment: