पटना, (रिर्पोटर) : भारत सरकार के श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोश गंगवार का कहना कि देश में रोजगार की कमी नहीं है लेकिन उत्तर भारत के नौजवानों में योग्यता की कमी है इस लिए लोग बेरोजगार हैं पर रोश व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता राजेश राठौड़ ने कहा कि ऐसा ओछा बयान भाजपा के ही नेता दे सकते हैं।

राठौड़ ने कहा कि उत्तर भारत तो छोडिय़े बिहार ज्ञान की धरती के लिए ही जाना जाता है, गौतम बुद्ध को भी ज्ञान प्राप्ति के लिए बिहार आना पड़ा, चाणक्य, सिक्खों के दसवें गुरू गोविन्द सिंह, आचार्य कृपलानी, राम मनोहर लोहिया, जयप्रकाश नारायण, यहां तक मंडन मिश्र के धर्मपत्नी से ही शंकराचार्य को शास्त्रार्थ में हार माननी पड़ी थी। बिक्रमशिला एवं नालंदा विश्वविद्यालय की गूंज पूरे विश्व में थी। माता सीता की भूमि अपना अपमान कभी नहीं सहन करेगी। कई राजनीतिक क्रांति की शुरूआत भी बिहार से हुई। उत्तर प्रदेश और बिहार की भूमि चैतन्य है, यहां के लोग चैतन्य हैं फिर भी इस तरह की बातें करना एक केन्द्रीय मंत्री के लिये बड़े शर्म की बात है।


Share To:

Post A Comment: