पटना, (रिर्पोटर) : बिहार में होने वाले उपचुनावों में सिमरी बख्तियारपुर विधानसभा सीट से विकासशील इंसान पार्टी ने अपने उम्मीदवार उतारने और 28 सितंबर को नामांकन की घोषणा कर दी है। यह घोषणा बुधवार को पटना में विकासशील इंसान पार्टी के ऑनलाइन सदस्यता का शुभारंभ सह मिलन समारोह के मौके पर पार्टी अध्यक्ष  मुकेश सहनी  ने की।  उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उपचुनाव में सिमरी बख्तियारपुर विधानसभा सीट पर पार्टी अपना कैंडिडेट उतारेगी। वीआईपी साथ ही अन्य 4 सीटों पर महागठबंधन के उम्मीदवार को समर्थन देगी।

उन्होंने कहा कि इस उपचुनाव में वीआईपी गठबंधन के सहयोगी रालोसपा, कांग्रेस, हम तथा राजद को पूरा सहयोग करेगी। उन्होंने कैंडिडेट के नाम की जल्द ही घोषणा करने की बात कही। साथ ही सिमरी बख्तियारपुर सीट पर 28 सितंबर को वीआईपी के उम्मीदवार अपना नामांकन दाखिल करेंगे। पत्रकारों के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि भाजपा के सहयोग से बिहार की सत्ता पर कुंडली मारकर बैठे नीतीश कुमार ने बिहार की प्रगति को गर्त में पहुंचा दिया है। उन्होंने कहा कि अगले महीने बिहार के 5 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में भाजपा-जदयू गठबंधन का सूपड़ा साफ हो जाएगा। उपचुनाव में महागठबंधन क्लीन स्वीप करेगी। उन्होंने कहा कि बिहार की जनता वर्तमान डबल इंजन की सरकार के दोनों इंजन फेल होने से उकता गई है तथा पूरी तरह से बदलाव के पक्ष में है।

इससे पहले पार्टी के ऑनलाइन सदस्यता का शुभारंभ सह मिलन समारोह का आयोजन पार्टी के पटना स्थित प्रधान कार्यालय में  किया गयाए जहां मिलन समारोह में युवा जदयू के पूर्व  प्रदेश अध्यक्ष संतोष कुशवाहा,आनंद मधुकर, विकास सिंह, डॉ विश्वनाथ प्रसाद ने पार्टी का सदस्यता ग्रहण किया।  इस अवसर पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए मुकेश सहनी ने कहा कि हमारा लक्ष्य 50 लाख लोगों को पार्टी से जोडऩे का है। वीआईपी आज बिहार के मुख्य धारा की पार्टी बन चुकी है। हजारों की संख्या में लोग पार्टी से जुडक़र इसे अत्यंत मजबूती प्रदान कर रहे हैं। वीआईपी समाज के हर तबके के हक़-अधिकारों को लेकर लगातार संघर्ष कर रही है। पार्टी का उद्देश्य हमेशा से समाज के हर वर्ग को साथ लेकर चलने का रहा है तथा पार्टी इसी उद्देश्य से निरंतर कार्य कर रही है।

उन्होंने कहा कि चलो गांव की ओर अभियान के तहत पार्टी के विचारधारा और कार्यों को गांव-गांव में घर-घर तक पहुंचाया जा रहा है। इस दौरान प्रदेश के हर क्षेत्र में हजारों की संख्या में समाज के भाई तथा माता-बहनें वीआईपी परिवार में शामिल हो रहे हैं।

Share To:

Post A Comment: