पटना, (रिर्पोटर) : जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने कहा कि राज्य सरकार की मंशा दरोगा बहाली में महिला अभ्यर्थियों के साथ इंसाफ की नहीं है, जिस कारण ही 160 सेंटीमीटर लंबाई का मानक रखा गया है। जबकि पूर्व में बहाली 155 सेंटीमीटर तक की हुई थी। आज अगर न्यायालय नहीं होता तो सरकार और निरंकुश हो जाती।

सांसद ने उक्‍त बातें आज सचिवालय थाना द्वारा जारी गिरफ्तारी वारंट पर पटना सिविल कोर्ट से जमानत मिलने के बाद पत्रकारों से बातचीत में कही। उन्‍होंने कहा कि राज्‍य में शिक्षकों का समर्थन करना क्या गुनाह है? अगर राज्य सरकार शिक्षकों के वेतन और दरोगा बहाली में अनियमितता नहीं की होती तो आज आंदोलन की आवश्यकता ही नहीं पड़ती। कहीं ना कहीं राज्य सरकार आम जनों के साथ – साथ छात्रों एवं शिक्षकों के हितों के साथ खिलवाड़ कर रही है जिसका हर स्तर पर पार्टी के द्वारा लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन जारी रहेगा। हमें न्यायालय और संविधान पर पूरा भरोसा है। हम उसी के दायरे में जनता के लोकतांत्रिक अधिकारों के लिए लड़ाई आगे भी जारी रखेंगे।

गौरतलब है कि विगत दिनों पटना के मुख्यमंत्री सचिवालय  के समक्ष महिला दरोगा अभ्यर्थियों के मामले को लेकर धरना प्रदर्शन के  खिलाफ सचिवालय थाना में 5 छात्र नेताओं सहित पप्पू यादव को नामजद किया गया था। इस मामले में पांच छात्र नेताओं को भी गिरफ्तार किया गया था। जबकि पप्पू यादव के खिलाफ आनन-फानन में सचिवालय थाना ने गिरफ्तारी का वारंट ले ली थी। आज उसी मामले को लेकर पप्‍पू यादव न्यायालय के समक्ष हाजिर होकर कर जमानत की मांग की, जिसे न्यायालय ने मंजूरी दे दी।

वहीं, दूसरी ओर पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एजाज अहमद ने न्‍यायालय के फैसले का स्‍वागत किया और कहा कि माननीय अध्‍यक्ष पप्‍पू यादव और हमारी पार्टी जनहित के मुद्दे पर संघर्ष करती है और आगे भी करेगी। इसी क्रम में राज्य शिक्षक संघर्ष समिति के द्वारा जिला मुख्यालय पर 14  सितंबर 2019 को आयोजित प्रतिरोध दिवस के कार्यक्रम में भी पार्टी के सभी जिला इकाई इस आंदोलन में शामिल होकर पूरी मजबूती से संघर्ष करेगी। उन्होंने कहा कि अफसोस इस बात का है कि बिहार सरकार बदले की भावना के तहत पप्पू यादव के द्वारा किसी भी संगठन के आंदोलन और संघर्ष में साथ देने पर इन्हें झूठे मुकदमे में फंसा कर तंग करने की नीति अपनाई जा रही है। यह निंदनीय है और शिक्षकों के हर जायज मांगों को मजबूती के साथ समर्थन देने का पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने फैसला लिया है।

Share To:

Post A Comment: