पलामू , (रिर्पोटर) : पूर्व मंत्री  के.एन त्रिपाठी ने भाजपा सरकार पर एक बार फिर जबरदस्त हमला बोलते हुए आगामी विधानसभा चुनाव को जनता बनाम अधिकारियों की लड़ाई करार दिया है।

पूर्व मंत्री श्री त्रिपाठी ने राज्य में जनता द्वारा चुने गए जनप्रतिनिधियों से ज्यादा सरकारी बाबुओं को तरजीह देने का आरोप लगाते हुए राज्य की भाजपा सरकार को कटघरे में खड़े करते हुए कहा कि रघुवर सरकार के शासनकाल में राज्य के डीसी.एसपी खुद को यमराज समझने लगे हैं तो वहीं सरकार के सचिव स्वयं खुद को सरकार।


श्री त्रिपाठी चैनपुर में वेतन संबंधित मांगों को लेकर धरने पर बैठे आंगनवाड़ी सेविकाओं को संबोधित कर रहे थे जहां उन्होंने आंगनवाड़ी सेविकाओं के वेतन संबंधित मांगों को जायज ठहराते हुए 16 हज़ार रुपये न्यूनतम मजदूरी का समर्थन किया और हुए वर्तमान सरकार में मांगे पूरी न होने पर अगली सरकार में इन मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया।


उन्होंने पिछले दिनों पलामू में आयोजित भाजपा के बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा द्वारा दिए गए एक बयान का भी उल्लेख किया और भाजपा और पार्टी नेताओं को आड़े हाथों लेते हुए कहा की इस बयान से तो यही प्रतीत होता है कि मुख्यमंत्री रघुवर दास और भाजपा सरकार का मुख्य उद्देश्य राज्य का विकास करना नहीं बल्कि इधर-उधर के मुद्दे उठाकर लोगों को लोगों को दिग्भ्रमित रखना है जिससे कि जनता का ध्यान जरुरी मुद्दे पर न जाये।


 श्री त्रिपाठी ने कहा कि  पिछले दिनों श्री नड्डा ने डाल्टनगंज में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा था की जब आप कार्यकर्ता जनता में जाएंगे तो जनता आपसे सरकार के कार्यों से संबंधित कई प्रश्न पूछेगी लेकिन उन सारे सवालों को घूमाकर उन्हें धारा 370 और तीन तलाक जैसे मुद्दों पर मोड़ दें जिसपर के एन त्रिपाठी ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा सरकार को विकास विरोधी करार दिया है पूर्व मंत्री त्रिपाठी ने राज्य में 5 वर्ष सरकार पूरे करने जा रही रघुवर सरकार के क्रियाकलापों पर घोरे असंतुष्टि जाहिर की।


Share To:

Post A Comment: