पटना, (रिर्पोटर) :  राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर भाजपा के राज्यसभा सदस्य आर. के. सिन्हा 'गांधी संकल्प यात्रा' के दूसरे दिन गुरुवार को अगले पड़ाव चिरैया प्रखंड स्थित क्रिश्चियन विधानसभा अंतर्गत मधुबनी आश्रम पहुंचे। यहां उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर खादी के धागों से माल्यार्पण करके श्रद्धा सुमन अर्पित किये। इस दौरान उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जीवन शांति, बंधुत्व और सद्भाव के आदर्शों के प्रति समर्पित था। आज इन आदर्शों के प्रति हमारी निष्ठा और संकल्प को दोहराने का अवसर है। महात्मा गांधी के विचार पूरी मानवता के लिए आज भी प्रासंगिक हैं। रास्ते में चिरैया के विधायक लाल बाबू प्रसाद गुप्ता के नेतृत्व में बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह जोरदार स्वागत किया। मधुबनी आश्रम में बिहार के सहकारिता मंत्री राणा रणधीर सिंह भी उपस्थित थे। मधुबनी आश्रम में सबसे पहले महात्मा गांधी की बैठकर चरखा कातते हुए प्रतिमा पर सिन्हा ने खादी के धागों का माल्यार्पण किया। सिन्हा ने मधुबनी गांधी आश्रम में चरखा व खादी उद्योग का अवलोकन कर खादी की चादर खरीदी। उन्होंने कहा कि यह मेरे लिए पूज्य बापू का स्मृति-चिह्न होगा। उसके बाद महात्मा गांधी द्वारा 1917 में स्थापित चम्पारण के मधुबनी आश्रम में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें जैविक खेती पर संगीत की प्रस्तुति दी गई। वहां मौजूद लोगों को जैविक खेती पर गीत सुनाया गया। इस दौरान बताया गया कि जैविक खेती के क्या फायदे हैं। भोजपुरी गाने के जरिये बताया गया, 'जैविक खेती अपनाएं और खुशहाल हो जाएं, मुनाफा कमाएं और इस तरह सब खुश रहें।' कार्यक्रम के जरिये  स्वच्छता, प्लास्टिक से मुक्ति, शौचालयों के बारे में भी संदेश दिया गया। सांस्कृतिक कार्यक्रम में यह भी बताया गया कि किस तरह से चंपारण की तिनकठिया प्रथा के विरुद्ध गांधी जी ने आंदोलन किया और उनको किस तरह सफलता मिली। इसके बाद शुरू हुई सभा में विधायक लाल बाबू प्रसाद गुप्ता और मंत्री राणा रणधीर सिंह ने बताया कि जो काम बापू ने 102 साल पूर्व यहां से प्रारम्भ किया था, वही काम आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कर रहे हैं। इसके प्रचार प्रसार के लिए सांसद आरके सिन्हा चार महीने की पद यात्रा पर हैं। भोजनोपरान्त सांसद सिन्हा बड़हरवा लखनसेन गए, जहां गांधी जी की मूर्ति पर माल्यार्पण किया। बड़हरवा लखनसेन ही वह स्थान है जहां गांधीजी ने कई महीने रहकर यहां पहले बुनियादी विद्यालय के प्रयोग प्रारम्भ किये थे। वैसे इस तरह के विद्यालय मधुबनी, बेतिया के बेनीपट्टी और मितरहवा में भी हैं लेकिन यह बड़हरवा लखनसेन का बुनियादी विद्यालय बहुत महत्व का है, जो ढाका विधानसभा क्षेत्र में आता है। यहां पर भी सभी भाजपा के कार्यकर्ताओं ने भव्य स्वागत किया। इसके बाद पद यात्रा अनुमंडल मुख्यालय पकड़ी दयाल पहुंची, जहां गांधी जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण हुआ। इसके बाद फिनहारा में एक बड़ी सभा हुई, जहां सांस्कृतिक कार्यक्रम और उसके बाद सभी नेताओं के भाषण हुए। पदयात्रा सभा को सांसद आरके सिन्हा ने भी संबोधित किया। उन्होंने बताया कि पदयात्रा में बहुत व्यापक जनसमर्थन मिल रहा है। पदयात्रा लगभग 120 दिनों तक अनवरत जारी रहेगी। बीच में दुर्गापूजा, छठ और दीपावली आदि की छुट्टियां रहेंगी लेकिन इस यात्रा की सार्थकता गांवों में व्यापक स्तर पर देखने को मिल रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाएं और पुरुष जिस प्रकार इसमें शामिल होकर जैविक कृषि अपनाने, देशी गायों को पालने, खादी पहनने, चरखा कातने और कुटीर उद्योग लगाने का संकल्प कर रहे हैं, यह इस पदयात्रा की बहुत बड़ी सफलता है। सभा के दौरान उन्होंने 'स्वच्छ हो अपना भारत देश' का संदेश भी दिया। उन्होंने कहा कि देशी गायों का दूध विभिन्न प्रकार की बीमारियों के लिए रामबाण होता है। खासकर कांकरेज नस्ल की देशी गाय के पालन व उनसे दूध उत्पादन को देश भर में व्यापकता प्रदान की जानी चाहिए।


Share To:

Post A Comment: