पटना, (रिर्पोटर) :  जन अधिकार पार्टी लोकतांत्रिक के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एजाज अहमद ने  कहा कि जब भाजपा के केंद्रीय मंत्री यह मान रहे हैं कि बिहार में डबल इंजन की एनडीए सरकार निष्ठुर और संवेदनहीन है तो अब तक नरेंद्र मोदी और भाजपा  ऐसे सरकार के प्रति मोह क्यों  बनाये रखे हुए हैं अगर केंद्र सरकार इतनी संवेदनशील है तो अब तक केंद्र सरकार ने पानी निकासी के लिए क्या व्यवस्था की है यह बात केंद्रीय मंत्री जी को बताना चाहिए था क्योंकि इससे पूर्व भी केंद्र सरकार ने बिहार को बाढ़ और सुखाड़ के लिए कोई भी आर्थिक सहायता राशि नहीं दी है।  एजाज ने कहा कि   जुमलेबाजी , जूतम पैजार एनुरा- कुश्ती के  खेल में भाजपा -जदयू  ने पटना की  जनता को जल कफ्र्यू में छोड़  रखा  है और दोनों दल एक दूसरे पर दोषारोपण करके  जनता के बीच भ्रम की स्थिति बनाए रखना चाहते हैं  और जल के बहाने छल की राजनीति कर रहे हैं, क्योंकि एक तरफ  जहां बिहार में भाजपा के सभी नेतागण सत्ता  की मलाई का  छाली काट रहे हैं एवहीं दूसरी ओर गिरीराज सिंह जैसे बडबोले और जमीनी सतह पर काम करने से दूर भागने वाले नेता  लोगो का ध्यान भटका कर भ्रम की स्थिति बनाए रखकर राजनीतिक रोटी सेंकना चाहते हैं। इन्होंने आगे कहा कि क्या नरेंद्र मोदी ने गिरीराज को ऐसे  बयान देने की छूट दे रखी   है जिससे  अराजक स्थिति का माहौल बना रहे और लोगों का  जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव के द्वारा किए जा रहे बेहतर राहत कार्यों से लोगों का ध्यान भटकाया जा सके यह उसी सोची समझी रणनीति के तहत भाजपा जदयू के नेता गण एक दूसरे पर बयानों का बौछार किए हुए हैं । जहां  एक ओर एक व्यक्ति  और एक पार्टी  के राष्ट्रीय अध्यक्ष  पप्पू यादव जल  कफ्र्यू वाले क्षेत्र में एक -एक लोगों को राहत पहुंचाने का काम कर रहे हैं और लोगो को रेस्क्यू करके सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रहे हैं ,वहीं दूसरी ओर केंद्र और बिहार सरकार के मंत्रीगण एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का जूतम पैजार करके जनता को उसके हाल पर छोड़े हुए हैं ,क्या गिरीराज  सिंह  इस बात का जवाब देंगे कि पिछले 30 वर्षों से पटना शहरी क्षेत्र के सभी लोकसभा एवं विधानसभा क्षेत्र का  प्रतिनिधित्व भाजपा का ही  रहा है फिर भी पटना का ऐसा  हाल  किस तरह से  है ।  उन्होंने कहा  की गिरिराज सिंह सही मायने  में ईमानदार होते तो वह पटना की सडक़ों पर उतर कर पप्पू यादव के के साथ उनके द्वारा दिए गए ऑफर को स्वीकार करके राहत कार्य चलाते और केंद्र सरकार से बड़े-.बड़े पंपिंग सेट मंगवा कर राजेंद्र नगर- कंकड़बाग से पानी निकासी की व्यवस्था करा देते लेकिन अफसोस होता है कि गिरीराज सिंह जैसे लोग को बिहार और देश की जनता भी क्यों पसंद करती है , जो सिर्फ नफरत और उन्माद के वातावरण को बनाए रखकर समाज को दूषित करने का काम करते हैं ।


Share To:

Post A Comment: