पटना, (रिर्पोटर) :  शीत सत्र के लगातार चैथे दिन विपक्ष के हंगाामे को स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने सूबे की जनता के साथ धोखा बताया है। श्री पांडेय ने कहा कि विपक्ष को न तो राज्य के विकास से मतलब है और न ही विधायी कार्यों से कोई वास्ता है। विधायी कार्यों में सहयोग के बदले संपूर्ण विपक्ष संतोषजनक जवाब मिलने के बाद भी हर दिन सदन में शोर-शराबा कर सत्र का महत्वपूर्ण वक्त जाया कर रहा है।
     श्री पांडेय ने कहा कि सदन में विपक्ष के अड़ियल रवैये के बावजूद सरकार जनता से जुड़े विधेयक पास कराने में भी सफल रहा। श्री पांडेय ने कहा कि विधायी कार्यों में विपक्ष हाथ बंटाने के बजाय सदन के अंदर और बाहर प्रदर्शन कर अपनी सियासत चमका रहा है, जिसे राज्य की जनता कभी बर्दाश्त नहीं करेगी। मुद्दाविहीन विपक्ष का हाल यह है कि इसमें शामिल दलों के नेता जनहित से जुड़े मामलों को दरकिनार कर हर रोज संभावना तलाश रहे हैं। विपक्ष का हाल यह है कि इसमें शामिल दलों की न तो कोई नीति है और न ही नीयत साफ है।
     श्री पांडेय ने राजद नेताओं द्वारा सरकार पर मनगढ़ंत आरोप लगा सदन नहीं चलने देने पर कहा कि ऐसा राजद की फितरत में शामिल है। राज्य की जनता राजद शासनकाल में 15 सालों तक सड़क से लेकर सदन तक राजद का खौफ के अलावे पारिवारिक लूट और सामूहिक भ्रष्टाचार देख चुकी है। इसलिए राजद नेताओं को खुद अपना सर्टिफिकेट देने की आवश्यकता नहीं है। राजद नेताओं को नजरिया बदलने की नसीहत देते हुए श्री पांडेय ने कहा कि मुख्यमंत्री और एनडीए का काल बिहार के लिए स्वर्णिम काल है, न कि राजद की तरह विध्वंसक काल है। 


Share To:

Post A Comment: