पटना, (रिर्पोटर) :  राजद प्रदेश महासचिव भाई अरूण कुमार एवं अत्यंत पिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव उपेन्द्र चन्द्रवंशी ने एक संयुक्त प्रेस बयान जारी कर केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान के द्वारा भारतीय मानक ब्यरो के द्वारा जारी रिपोर्ट में पटना के जल को पीने लायक नहीं बताया गया वहीं वायु प्रदुषण के मामले में भी पटना के वायु को सबसे ज्यादा प्रदूशित बताया गया है जो कि पटना में रहने वाले लोगों को महसूस हो रहा हे। पटना में वायु प्रदुषण से प्रतिदिन 10 व्यक्ति फेफड़ा रोग से ग्रसित हो रहा है वहीं प्रतिदिन 10 से 20 व्यक्ति गंदा पानी पीने से पिलिया रोगए हैपीटाइटिस बी एवं टायफायड रोग से पीडि़त हो रहे हैं। इतना होने के बावजूद राज्य सरकार प्रदूषण कम करने के दिषा में कोई कारगर उपाय नहीं किया जा रहा है जो चिन्ता का विषय है। उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी जी जो पर्यावरण मंत्री है एवं कभी पटना मध्य के विधायक भी रहे हैं कम से कम इन्हें तो पटना के लागों पर ध्यान देने की जरूरत है। लेकिन इन्हें पटना के लोगों से कोई मतलब नहीं है। इन्हें कभी जनता की चिन्ता रही ही नहीं जब पटना डूब रहा था तो ये पटना के लोों को बीच मझधार में छोडक़र भाग गए थे और आज पटना के लोग प्रदूषित जल और हवा ले रहे हैं तो उनहें बचाव के लिए कुछ नहीं कर रहे है। इन नेताओं ने विधानसभा अध्यक्ष एवं माननीय मुख्यमंत्री से मांग किया है कि पटना के प्रदूषण मामले में एक दिन अलग से विधान सभा में चर्चा कराकर निदान ढंूढा जाय।

Share To:

Post A Comment: