पटना, (रिर्पोटर) : बिहार के सरकारी अस्पतालों में सप्लाई होने वाली जीवनरक्षक दवा बीएमएसआईसीएल के फतुहा, मुजफ्फरपुर और पूर्णिया गोदाम से करोड़ो रूपये की दवा गायब है। आम आदमी पार्टी बिहार के प्रदेश मीडिया प्रभारी बबलु कुमार प्रकाश ने कहा कि बिहार सरकार की दवा से यूपी के बच्चों का इलाज हो रहा है। ऐसी स्थिति में सूबे के सरकारी मेडिकल कॉलेज, पीएचसी व रेफरल अस्पतालों में इलाज कराने वाले मरीजो को मुफ्त में दवाई कहाँ से मिलेगी ? बबलु ने कहा बिहार में दवा घोटाला पाँच वर्षिय योजना की तरह है। 2014 में करोड़ो रूपये का दवा घोटाला का मामला उजागर हुआ था। विपक्ष में बैठे सुशील मोदी ने खूब हाई तौबा मचाई थी। उन्होंने तत्कालीन मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी से सीबीआई जांच कराने की मांग तक कर दी थी।  बता दें कि 2015 में बीएमएसआईसीएल, फतुहा और मुजफ्फरपुर के गोदाम के स्टॉक से 75 लाख की गड़बड़ी मिली थी। बिहार में लम्बे समय से चिकित्सा उपकरण, दवा की जांच, मरीजो को मिलने वाली सुख- सुविधाओं के नाम घोटालो का खेल चल रहा है। सूबे के उप मुखिया सुशील मोदी चुप्पी साधे हुए हैं। आखिर मोदी जी, करोड़ो रूपये की दवा घोटाला पर चुप क्यों हैं ? सीबीआई से जांच करा कर दोषियों को सजा क्यों नही दिला रहें हैं। बबलु ने स्वास्थ्य विभाग में बड़ा घोटाला होने की आशंका जाहिर की है। यहां सब कुछ वेहद शातिराना तरीके से फर्जी खेल चल रहा है। दवा कंपनियों को करोड़ो रूपये का फर्जी भुगतान की जा रही है। सप्लाई फर्जी। स्टॉक इंट्री फर्जी। सिविल सर्जन द्वारा जारी एटूलाइजेशन सर्टिफिकेट फर्जी निकलेगा। सरकारी अस्पतालों में सप्लाई की जाने वाली दवाई खुले बाजार में बेचना आसान नही है। क्योंकि दवा के रेपर पर Bihar Government Supply ओर नोट फॉर सेल लिखी होती है। आशंका है कि अधिकारियों से सांठगांठ कर कंपनी थोड़ी बहुत ही दवा सप्लाई करती है।पत्रिका खबर के हवाले से बबलु ने बताया कि बिहार सरकार की सप्लाई की गई बिहार गवर्नमेंट का पैरासिटामॉल सीरप, उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिला अस्पताल में मरीजो को दी जा रही है।


Share To:

Post A Comment: