सूर्य और चन्द्र ग्रहण समय-समय पर लगते रहते हैं। ग्रहण लगना धार्मिक मान्यताओं के अनुसार अशुभ माना जाता है। इस वर्ष 2019 ईo में दो सूर्य ग्रहण लग चुके हैं और इस वर्ष का आखिरी सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर को लगेगा। इस सम्बन्ध में अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त ज्योतिष योग शोध केन्द्र, बिहार के संस्थापक दैवज्ञ पंo आरo केo चौधरी उर्फ बाबा-भागलपुर, भविष्यवेत्ता एवं हस्तरेखा विशेषज्ञ ने सुगमतापूर्वक बतलाया कि:-  26 दिसम्बर 2019 (गुरूवार) को सूर्य ग्रहण लगेगा। यह ग्रहण धनु राशि में लग रहा है। धनु राशि में छ: ग्रहों की युति सम्बन्ध है। इसलिए इस युति सम्बन्ध के फलस्वरूप ज्योतिषीय दृष्टिकोण से आने वाले छ:-से-सात महीने तक का समय भारत सहित अन्य कई देशों के लिए भय, अशांति व युद्ध जैसा माहौल उत्पन्न करने वाला तथा प्राकृतिक प्रकोपों से विचलित करने वाला हो सकता है। जो भारत सहित दुनिया के अन्य देशों के लिए अत्यंत प्रतिकूल और कष्टदायक हो सकता है। (खासकर उन देशों के लिए जिन पर ग्रहण का विशेष कुप्रभाव है।) सूर्य ग्रहण भारत के केरल राज्य में दिखाई देगा। इस ग्रहण में सूर्य एक आग की अंगूठी की तरह दिखाई देगा। जिसे वैज्ञानिकों की भाषा में वलयाकार सूर्य ग्रहण कहा जाता है। इस ग्रहण में सूर्य का केवल मध्य भाग ही छाया क्षेत्र में आता है और सूर्य के बाहर का क्षेत्र प्रकाशित होता है। इस ग्रहण को भारत समेत पूर्वी यूरोप, एशिया, उत्तरी- पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया और पूर्वी अफ्रीका में देखा जा सकेगा।

सूर्य ग्रहण समय :-  08:17 प्रातः से प्रारंभ और परमग्रास:- 09:31 बजे दिन।

ग्रहण समाप्ति काल – 10:57 बजे दिन।

खण्डग्रास की अवधि – 02 घण्टे 40 मिनट्स।

सूतक प्रारम्भ: – 25 दिसम्बर

को 05:32 सायं से।

सूतक समाप्त: – 26 दिसंबर को

10:57 बजे दिन में।

क्या होता है सूतक?  सूर्य ग्रहण से पहले सूतक शुरू हो जाता है। जिस दौरान सभी शुभ कार्यों को करने की मनाही होती है। मंदिरों के कपाट बंद कर दिये जाते हैं।सूतक के समय भोजन भी नहीं पकाना चाहिए। क्योंकि ग्रहण की किरणों से भोजन अशुद्ध हो सकता है। जहाँ तक संभव हो तो इस समय शौच जाने से भी परहेज करना चाहिए।

सूर्य ग्रहण का राशियों पर प्रभाव:- 1. मेष राशि:- विभिन्न प्रकार के परेशानियों का सामना करना पड़ता सकता है।

2. वृषभ राशि:- आर्थिक कष्ट व मान-सम्मान में कमी।

3. मिथुन राशि:- शारीरिक और मानसिक कष्ट के आसार।

4. कर्क राशि:- सुखद व उन्नतिपूर्ण समय फिर कुछेक कष्ट।

5. सिंह राशि:- संतान से सम्बन्धित परेशानी व कष्ट।

6. कन्या राशि:- घर-परिवार में अशांति व मानसिक कष्ट।

7. तुला राशि:- अनुकूल व शुभ फलदायक समय।

8. वृश्चिक राशि:- परेशानीदायक व कष्ट पूर्ण समय।

9. धनु राशि:- विभिन्न प्रकार के परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

10. मकर राशि:- खर्च की अधिकता व परेशानी।

11. कुम्भ राशि:- आर्थिक लाभ व अध्यात्मिक उन्नति।

12. मीन राशि:- विवाद की आशंका व कार्य क्षेत्र में परेशानी सम्भावित।


Share To:

Post A Comment: