पटना, (रिपोर्टर) : राष्ट्रीय संस्थानन ओपन स्कूलिंग से प्रशिक्षण प्राप्त ग्रामीण चिकित्सक गांवों में प्राथमिक उपचार करेंगे। फरवरी 2020 में 15 हजार से ज्यादा प्रशिक्षु अभ्यार्थियों को दीक्षांत समारोह में प्रमाण पत्र दिया जायेगा। राज्य स्वास्थ्य परामर्शदात्री समिति के अध्यक्ष डा. एलबी  ङ्क्षसह एवं एनआईओएस के क्षेत्रीय निदेशक कमांडर परमप्रीत सिंह ने पत्रकारों से वार्तालाप कर कहा कि राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूती प्रदान को लेकर एनआईओएस एवं स्वास्थ्य समिति द्वारा 324 केन्द्रों पर प्रदेश के युवाओं को कौशल विकास योजना के समतुल्य प्रशिक्षण देगी। प्रशिक्षण के पहले चरण में 15 हजार 139 अभ्यार्थी प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके हैं इन्हें फरवरी में आयोजित होने वाला दीक्षांत  समारोह में प्रमाण पत्र देकर म्मानित किया जायेगा। दूसरे चरण में 16,200 उम्मीदवारों 21 दिसम्बर को चालू होगी। ग्रामीण क्षेत्रों से चिकित्सा के अभाव में असामयिक मृत्यु होने पर रोक लगाने के लिए सरकार द्वारा प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इस प्रशिक्षण के अलावे अन्य  संस्थानों से प्रशिक्षण प्राप्त ग्रामीण चिकित्सकों की नियुक्ति प्रमाण पत्र अवैध मानी जायेगी।

Share To:

Post A Comment: