पटना, (रिपोर्टर) :   राहुल गाँधी पर कांग्रेस के स्थापना दिवस पर दिए भाषण में झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए भाजपा प्रवक्ता व पिछड़े समाज के नेता राजीव रंजन ने कहा “ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी में झूठ अब इस कदर रच बस गया है कि पार्टी के स्थापना दिवस पर दिए भाषण में भी उनसे बिना झूठ बोले रहा नहीं गया. अपने भाषण में उन्होंने प्रधानमन्त्री के बयान को तोड़-मरोड़ कर कार्यकर्ताओं के सामने पेश करने की कोशिश की. उनके अनुसार प्रधानमन्त्री जी ने देश में हिरासती केंद्र नहीं होने की बात कही थी, जबकि प्रधानमन्त्री जी के उक्त भाषण का विडियो देखें तो ऐसी कोई बात दिखाई तक नहीं देती. मतलब साफ़ है कि सुप्रीम कोर्ट में झूठ बोलने के लिए बार-बार माफ़ी मांग, अपनी पूरी पार्टी की घनघोर बेइज्जती करवाने के बावजूद राहुल जी का मन अभी तक भरा नहीं है. वह चाहते हैं कि कांग्रेस की बची-खुची साख भी मिट्टी में मिल जाए. इससे पहले भी राहुल जी एनपीआर और नागरिकता संशोधन पर झूठ फैलाते हुए मीडिया द्वारा रंगे हाथों धरे जा चुके हैं. उनके हिसाब से एनपीआर गरीबों पर लगने वाला टैक्स है और मोदी सरकार द्वारा शुरू की जा रही है. जबकि हकीकत में यह परियोजना 2010 में खुद कांग्रेस द्वारा शुरू की गयी थी और इसका संबंध जनगणना से है. इससे साफ़ है कि राहुल जी को इन मुद्दों पर रत्ती भर भी जानकारी नहीं है, लेकिन लोगों को गुमराह करने के लिए वह इन विषयों पर उल्टे-सीधे वक्तव्य देकर सिर्फ अपनी प्रासंगिकता साबित करना चाहते हैं. इससे यह भी मालूम पड़ता है कि राहुल जी झूठ की खेती करने में इतने मशगुल हो चुके हैं कि उन्हें अपनी खत्म हो चुकी विश्वसनीयता की भी चिंता नहीं है. उन्हें लगता है कि विपक्षी होने का मतलब सरकार के विरोध में कुछ भी बोल कर निकल जाना है. उन्हें यह समझना चाहिए कि उनके स्तर के नेता को इस तरह खुलेआम झूठ बोलना शोभा नहीं देता. इसलिए कांग्रेस पार्टी को हमारी सलाह है कि राहुल जी को पहले इन विषयों पर जानकारी देकर, अच्छे से समझाएं फिर मैदान में उतारें.”


Share To:

Post A Comment: